इंडोनेशिया के बाली में मिले जयशंकर और वांग, चीन ने बॉर्डर को लेकर दिया बड़ा बयान


India China Relations, India China Border, G20, S Jaishankar, Wang Yi, Wang Yi China Border- India TV Hindi
Image Source : PTI FILE
S Jaishankar and Wang Yi.

Highlights

  • दोनों देशों के पास बॉर्डर के इलाकों में शांति और स्थिरता बनाये रखने की क्षमता और नीयत है: चीन
  • लिजियान ने कहा कि इस समय भारत-चीन सीमा क्षेत्र में स्थिति आम तौर पर स्थिर है।
  • हमारे पास अपने सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और स्थिरता की रक्षा करने की क्षमता और नीयत है: चीन

India China at G20: विदेश मंत्री एस. जयशंकर की चीनी समकक्ष वांग यी के साथ गुरुवार को इंडोनेशिया के बाली में मुलाकात हुई। दोनों की मुलाकात के बारे में बात करते हुए चीन ने कहा कि सीमा पर स्थिति ‘आम तौर पर स्थिर’ है और दोनों देशों के पास बॉर्डर के इलाकों में शांति और स्थिरता बनाये रखने की क्षमता और नीयत है। जयशंकर ने इंडोनेशिया के बाली में वांग के साथ बातचीत की और इस दौरान ‘विशिष्ट लंबित मुद्दों’ पर खास जोर रहा। जी20 देशों के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन से इतर बाली में दोनों विदेश मंत्रियों की मुलाकात एक घंटे चली।

बड़ी खबर: ‘जब काट देंगे तब…’, हाई कोर्ट के गलियारे तक पहुंचा नूपुर विवाद, एक मुंशी ने दूसरे को धमकाया

‘हम उचित समय पर सूचना जारी करेंगे’

मुलाकात के दौरान जयशंकर ने वांग यी को पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सभी अटके हुए मुद्दों को जल्द से जल्द हल करने की जरूरत के बारे में बताया और जोर दिया कि द्विपक्षीय संबंध परस्पर सम्मान, परस्पर संवेदनशीलता और परस्पर हितों पर आधारित होने चाहिए। जयशंकर-वांग बैठक बारे में पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि जानकारी उचित समय पर जारी की जाएगी। उन्होंने कहा, ‘आप की तरह मैं भी बैठक पर करीबी नजर रख रहा हूं, हम उचित समय पर सूचना जारी करेंगे।’

VIDEO: ‘बोल देना नशे में था’, सलमान चिश्ती को बचाना चाहती है राजस्थान पुलिस?

‘हमने भारत की प्रेस रिलीज को पढ़ा है’
लिजियान ने आगे कहा, ‘हमने बैठक के बारे में भारत की प्रेस रिलीज को पढ़ा है। मैं आपसे यही कह सकता हूं कि इस समय भारत-चीन सीमा क्षेत्र में स्थिति आम तौर पर स्थिर है। चीन और भारत एक दूसरे के अहम पड़ोसी हैं। हमारे पास अपने सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और स्थिरता की रक्षा करने की क्षमता और नीयत है।’ उधर, नयी दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने कहा कि जयशंकर ने द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकाल तथा पूर्व की बातचीत के दौरान दोनों मंत्रियों के बीच बनी समझ का पूरी तरह से पालन करने के महत्व को भी दोहराया।

24-25 मार्च को भारत आए थे वांग
विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘विदेश मंत्री ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर सभी लंबित मुद्दों के जल्द समाधान का आह्वान किया।’ वांग ने 24 और 25 मार्च को भारत का दौरा किया था और उसके बाद दोनों विदेश मंत्रियों की यह पहली मुलाकात थी। पैंगोंग झील इलाके में हिंसक झड़प के बाद 5 मई 2020 को भारत व चीनी सेनाओं के बीच सीमा गतिरोध शुरू हो गया था। उस झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे जबकि चीन के भी कई सैनिक मारे गए थे।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here