‘इजरायल के पीएम को घरवालों समेत मार डालेंगे’, धमकी देने वाले ने चिट्ठी के साथ गोली भी भेजी


Naftali Bennett, Israel PM, Israel PM Naftali Bennett Death Threat Letter- India TV Hindi
Image Source : AP FILE
Israel Prime Minister Naftali Bennett and his family get death threat.

Israel PM Naftali Bennett Death Threat Letter: इजरायल के प्रधानमंत्री Naftali Bennett और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने नफ्ताली बेनेट और उनके परिजनों की सुरक्षा बढ़ा दी है। पुलिस के मुताबिक, प्रधानमंत्री व उनके परिवार के नाम एक पर एक चिट्ठी मिली है जिसमें एक कारतूस है और जान से मारने की धमकी दी गयी है। पुलिस ने बताया कि उन्होंने और इजरायल की आंतरिक सुरक्षा देखने वाली एजेंसी ‘शिन बेट’ ने प्रधानमंत्री Naftali Bennett व उनके परिवार को मिली धमकी के मामले की जांच शुरू कर दी है।

‘पीएम बेनेट और परिवार की सुरक्षा को मजबूत किया गया’


पुलिस ने एक छोटा-सा बयान जारी कर बताया कि चिट्ठी बेनेट और उनके परिवार के लिए थी जिसमें एक कारतूस भी था। प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार ने मंगलवार को कहा, ‘प्रधानमंत्री और उनके परिवार (Naftali Bennett and Family) को जान से मारने की धमकी देने वाला पत्र और कारतूस मिलने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने बेनेट के परिवार की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार ईकाई को मजबूत करने का फैसला किया है।’

PM की पत्नी के पुराने दफ्तर पर भेजी गई थी चिट्ठी

इजरायली अखबार ‘हारेत्ज़’ ऑनलाइन ने एक सूत्र के हवाले से कहा है कि चिट्ठी को बेनेट के रानाना आवास या यरूशलम स्थित आधिकारिक निवास पर नहीं भेजा गया है बल्कि प्रधानमंत्री की पत्नी गिलत बेनेट के पुराने दफ्तर पर भेजा गया था। सूत्रों ने बताया कि उन्होंने परिवार को पत्र के बारे में सूचित किया जिसने ‘शिन बेट’ को काम पर लगाया। खबर में कहा गया है कि पत्र में दंपति के 16 वर्षीय बेटे यौनी का जिक्र है और कहा है कि ‘हम तुम तक पहुंचेंगे।’

‘राजनीतिक मतभेद में हिंसा की बात नहीं होनी चाहिए’

बेनेट ने अपने सोशल मीडिया पेज पर साझा किए गए बयान में कहा कि राजनीतिक मतभेद कितना ही गहरा क्यों न हो बात हिंसा की नहीं होनी चाहिए, जान से मारने की धमकियां नहीं आनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हमें नेताओं और नागरिकों के रूप में सब कुछ करना है, जो इस देश में अपने भविष्य और अपने बच्चों के भविष्य की परवाह करते हैं, ताकि ऐसी घटनाएं न हों।’

इजरायली सुरक्षाबलों और फीलीस्तीनियों के बीच संघर्ष बढ़ा

बेनेट ने अगले हफ्ते इजरायल के स्वतंत्रता दिवस और आतंकवाद की वजह से जान गंवाने वाले सैनिकों और लोगों की याद में मनाए जाने वाले ‘मेमोरियल डे’ से पहले राजनीतिक विमर्श की तपिश को कम करने का आग्रह किया है, खासकर सोशल मीडिया पर। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से इजरायली सुरक्षाबलों और फीलीस्तीनियों के बीच संघर्ष में भी इजाफा देखने को मिला है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here