क्या यूक्रेन के हाथों से फिसल रहा है युद्ध? 2500 सैनिकों के बाद रूस ने मार गिराए 8 लड़ाकू ड्रोन


हाइलाइट्स

रूस ने 8 मानव रहित हवाई लड़ाकू विमानों को मार गिराया
एक हफ्ते में 2500 से अधिक जवानों को मार गिराया
एक टैंक, 3 बख्तरबंद कर्मियों के वाहक और 13 विशेष वाहन का हुआ सफाया

मास्को. यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध के आठ महीने गुजर जाने के बाद रूसी सैनिकों ने वापस अपनी पकड़ को मजबूत करना शुरू कर दिया है. रूस की न्यूज़ एजेंसी TASS के मुताबिक रूसी वायु सेना ने यूक्रेन के आठ मानव रहित कॉम्बैट ड्रोन को मार गिराया है. रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट-जनरल इगोर कोनाशेनकोव ने गुरुवार को बताया कि रूसी वायु रक्षा बलों ने विशेष सैन्य अभियान में यूक्रेन के आठ मानव रहित हवाई लड़ाकू विमानों, 13 HIMARS मिसाइल लांचर, ओलखा और उरगन रॉकेटों को नष्ट कर दिया है.

प्रवक्ता ने रूसी मीडिया से बातचीत में कहा कि पिछले 24 घंटे में, वायुसेना ने आठ यूक्रेनी मानव रहित लड़ाकू विमानों को खेरसॉन, लुगांस्क पीपुल्स रिपब्लिक, और खारकोव क्षेत्र में मार गिराया है. जनरल ने कहा कि रूसी वायु रक्षा प्रणालियों ने इन क्षेत्रों में HIMARS, ओलखा और उरगन मल्टीपल लॉन्च रॉकेट सिस्टम के 13 रॉकेटों को भी मार गिराया है. आपको बता दें कि HIMARS अमेरिकी सेना का एडवांस रॉकेट लॉन्चर है, जो बीते दिनों रूस पर भारी पड़ रहा था.

यूक्रेन को काउंटर अटैक में हुआ नुकसान
यूक्रेन को रूस द्वारा कब्जा किये क्षेत्रों को छुड़ाना बेहद महंगा पड़ रहा है. रूस की सेना ने यूक्रेन के हमलों का जवाब देते हुए एक हफ्ते के भीतर 2500 से अधिक जवानों को मार गिराया है. पिछले 24 घंटे में लुहांस्क पीपुल्स रिपब्लिक (एलपीआर) की सेनाओं के साथ लड़ाई में यूक्रेन के कम से कम 50 जवानों की मौत हो गई थी. पीपुल्स मिलिशिया ने अपने टेलीग्राम चैनल पर फिलिपोनेंको का हवाला देते हुए कहा कि इस हमले में 50 यूक्रेनी सैनिक मारे गए. एक टैंक, 3 बख्तरबंद कर्मियों के वाहक और 13 विशेष वाहन का सफाया कर दिया गया.

रूस की न्यूज़ एजेंसी TASS की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि रूसी सशस्त्र बलों ने पिछले सप्ताह यूक्रेन में अपने विशेष सैन्य अभियान के दौरान 2,500 से अधिक यूक्रेनी और विदेशी भाड़े के सैनिकों का सफाया कर दिया. एक सप्ताह पहले मारे गए सैनिकों की तुलना में यह संख्या0 डेढ़ गुना अधिक है. रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि 17 से 23 अक्टूबर तक यूक्रेन को ‘निकोलेयेव-क्रिवॉय रोग फ्रंट’ पर सैनिकों और उपकरणों के मामले में सबसे भारी नुकसान हुआ है.

Tags: Europe, Russia ukraine war, USA, World news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here