गर्भपात पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला ‘निजता के अधिकार’ को चुनौती: जो बाइडेन


मैड्रिड. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने गर्भपात के संवैधानिक अधिकार को समाप्त करने के उच्चतम न्यायालय के फैसले को ‘अस्थिर’ करने वाला करार दिया. उन्होंने साथ ही कहा कि यह विश्व मंच पर अमेरिका की स्थिति को प्रभावित नहीं करता.

मैड्रिड में नाटो सहयोगियों और बवेरियन आल्प्स में सात बड़ी लोकतांत्रिक अर्थव्यवस्थाओं के समूह के नेताओं के साथ चर्चा से जुड़ी पांच दिवसीय विदेश यात्रा के समापन पर बाइडेन पत्रकारों से बात कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने शुक्रवार को आए उच्चतम न्यायालय के आदेश का जिक्र किया जिसमें महिलाओं के लिए गर्भपात को संवैधानिक अधिकार बनाने वाले 50 साल पुराने ‘रो बनाम वेड’ फैसले को पलट दिया गया था.

बाइडेन ने कहा, ‘अमेरिका दुनिया का नेतृत्व करने के लिए पहले से बेहतर स्थिति में है, लेकिन एक चीज जो अस्थिर कर रही है, वह है अमेरिका के सर्वोच्च न्यायालय का अपमानजनक व्यवहार, जिसने न केवल रो बनाम वेड फैसले को खारिज किया, बल्कि अनिवार्य रूप से निजता के अधिकार को भी चुनौती दी.’ उन्होंने कहा, ‘मैं समझ सकता हूं कि उच्चतम न्यायालय ने जो किया उससे अमेरिकी लोग निराश क्यों हैं.’

बाइडेन ने कहा कि वह सीनेट के बाधाकारी नियमों को बदलने का समर्थन करेंगे, जिसमें अधिकतर कानूनों को पारित करने के लिए 60 वोट की आवश्यकता होती है, ताकि देशव्यापी गर्भपात सुरक्षा को साधारण बहुमत से पारित करने के लिए एक विधेयक लाया जा सके.

तीन दिवसीय शिखर सम्मेलन में बाइडन प्रशासन ने यूरोप में अमेरिकी सैन्य उपस्थिति को स्थायी रूप से मजबूत करने की योजना की घोषणा की. उन्होंने रूस और चीन से नए खतरे के मद्देनजर ट्रांस-अटलांटिक गठबंधन को आधुनिक बनाने का श्रेय भी लिया.

Tags: Joe Biden, United States



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here