चीन के विदेश मंत्री से मिले एस जयशंकर, सीमा के ताज़ा हालात पर की चर्चा


बाली. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इंडोनेशिया के बाली में अपने चीनी समकक्ष वांग यी के साथ मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच सीमा के ताजा हालात को लेकर चर्चा हुई. इन दोनों ने छात्रों और उड़ानों सहित अन्य मामलों के बारे में भी बातचीत की. बता दें कि जयशंकर जी20 विदेश मंत्रियों की 7 और 8 जुलाई को बाली में आयोजित बैठक में भाग लेने के लिए इंडोनेशिया गए हैं.

जयशंकर ने इस मीटिंग को लेकर खुद ट्विटर पर जानकारी दी है. उन्होंने लिखा है कि राजधानी बाली में दिन की शुरुआत वांग यी के साथ मुलाकात से हुई. विदेश मंत्री के मुताबित दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे तक कई मुद्दों पर चर्चा हुई.

एस जयशंकर का ट्वीट

मई 2020 से गतिरोध
भारत और चीन की सेनाओं के बीच 5 मई, 2020 से पूर्वी लद्दाख में सीमा पर तनावपूर्ण संबंध बने हुए हैं. उस वक्त पैंगोंग त्सो क्षेत्रों में दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़प हुई थी. इसके बाद से गतिरोध बरकरार है. चीन पूर्वी लद्दाख में रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण पैंगोंग झील के आसपास अपने कब्जे वाले क्षेत्र में एक पुल का निर्माण कर रहा है. साथ ही चीन भारत से लगे सीमावर्ती इलाकों में सड़कें और रिहायशी इलाके जैसे अन्य बुनियादी ढांचे भी स्थापित करता रहा है. अमेरिका ने भी इसको लेकर नाराज़गी जताई है.

कोरोना के चलते फंसे हैं छात्र
पिछले महीने चीन में भारत के राजदूत प्रदीप कुमार रावत और चीन के विदेश मंत्री वांग यी भारतीय छात्रों की वापसी का मुद्दा उठाया था. भारत और चीन ने कोविड-19 संबंधी बीजिंग के प्रतिबंधों के कारण दो साल से घरों में अटके हजारों भारतीय छात्रों की वापसी पर चर्चा की थी. इसके अलावा कोरोना वायरस महामारी से बाधित सीधी उड़ानें बहाल करने के विषय पर बातचीत हुई थी.

जी20 के सदस्य देशों की बैठक
बाली में अपनी यात्रा के दौरान विदेश मंत्री जयशंकर जी20 समूह के सदस्य देशों एवं बैठक में आमंत्रित अन्य देशों के अपने समकक्षों के साथ द्विपक्षीय बैठक कर सकते हैं. बता दें कि जी20 दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं का एक महत्वपूर्ण समूह है. इसमें वैश्विक जीडीपी का 80 प्रतिशत और वैश्विक कारोबार का 75 प्रतिशत आता है साथ ही इस समूह के देशों की आबादी पृथ्वी की कुल आबादी का 60 प्रतिशत है .

Tags: India china border dispute, S Jaishankar



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here