‘जल्दी से सभी भारतीय यूक्रेन छोड़ें’…. भारतीय दूतावास ने दी चेतावनी, जानें वजह


हाइलाइट्स

यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने कहा- ‘जल्दी से सभी भारतीय यूक्रेन छोड़ें’
बढ़ते युद्ध में भारतीयों की सुरक्षा को देखते हुए ये फैसला लिया गया
किसी भी मुसीबत के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया

कीव. भारतीय दूतावास ने मंगलवार को कीव में एक ताजा सलाह जारी कर यूक्रेन में सभी भारतीय नागरिकों को बढ़ती शत्रुता को देखते हुए तुरंत देश छोड़ने के लिए कहा है साथ ही किसी भी मुसीबत के लिए दूतावास ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है. रूस-यूक्रेन जंग से हो रही तबाही का असर पूरी दुनिया में दिख रहा है. दूसरे देशों से गए हुए लोग भी वहां से भाग आए हैं. भारत भी यूक्रेन में फंसे भारतीय लोगों की सुरक्षा को देखते हुए ऑपरेशन गंगा के तहत उन्हें अपने देश वापस लाया.

यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट की गई एक सलाह में कहा, “कुछ भारतीय नागरिकों ने पहले की एडवाइजरी के अनुसार यूक्रेन छोड़ दिया था. 19 अक्टूबर को दूतावास द्वारा जारी एडवाइजरी के क्रम में, यूक्रेन में सभी भारतीय नागरिकों को तुरंत उपलब्ध साधनों से यूक्रेन छोड़ने की सलाह दी जाती है.”

दूतावास ने अपनी नवीनतम एडवाइजरी में “सीमा पर यात्रा करने के लिए आवश्यक किसी भी मार्गदर्शन / सहायता” के लिए संपर्क नंबर दिए हैं. तीन नंबर जारी किए हैं जो इस प्रकार हैं- 380933559958, 380635917881, 380678745945. कीव में भारतीय दूतावास ने 19 अक्टूबर को एक एडवाइजरी जारी कर भारतीय नागरिकों को संघर्ष के मद्देनजर बिगड़ती सुरक्षा स्थिति को देखते हुए देश छोड़ने को कहा था. एडवाइजरी में कहा गया कि बिगड़ती सुरक्षा स्थिति और हाल ही में यूक्रेन में शत्रुता के बढ़ने के मद्देनजर, भारतीय नागरिकों को यूक्रेन की यात्रा न करने की सलाह दी जाती है.

क्रीमिया रोड ब्रिज पर एक ट्रक के फटने के बाद रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध तेज हो गया है, जिससे क्रीमिया प्रायद्वीप की ओर जा रही एक ट्रेन के सात ईंधन टैंकों में आग लग गई. मास्को द्वारा क्रीमिया पर कब्जा करने के चार साल बाद 2018 में क्रीमियन ब्रिज को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा खोला गया था और प्रायद्वीप को रूस के परिवहन नेटवर्क से जोड़ने के लिए डिजाइन किया गया था.

Tags: Indian Embassy, Russia, Russia ukraine war



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here