जेलेंस्की ने कहा, हम उस दिन के लिए लड़ रहे हैं जो विजय दिवस होगा, रूस ने तेज किए हमले


पोक्रोव्स्क (यूक्रेन). रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध को तीन महीने का वक्त होने वाला है लेकिन युद्ध अब भी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. पिछले महीने में तुर्की में दोनों देशों के राजनयिकों की वार्ता से कुछ उम्मीद जगी थी लेकिन वार्ता के कुछ ही दिनों बाद रूस ने हमले तेज कर दिए. अब तो पोलैंड के राष्ट्रपति के यूक्रेन की यात्रा के बाद रूस ने हमला और तेज कर दिया है. इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा है कि इस युद्ध का परिणाम यह तय करेगा कि उनके देश का भविष्य पश्चिम के साथ जुड़ा है या यह मॉस्को के कब्जे में होगा. यूक्रेनी राष्ट्रपति ने कहा, हम उस दिन के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं, जो विजय दिवस होगा.

पोलैंड के राष्ट्रपति अचानक यूक्रेन पहुंचे
जेलेंस्की ने शनिवार रात को जारी वीडियो संदेश में डोनबास के हालात को बेहद मुश्किल करार दिया. हालांकि, जेलेंस्की ने इस तथ्य की ओर इशारा किया कि युद्ध के 87वें दिन भी यूक्रेनी बल मजबूती से रूसी सैनिकों का मुकाबला कर रहे हैं. इस युद्ध में पश्चिमी देश यूक्रेन के साथ खड़े हैं. पश्चिमी देशों के कई राष्ट्राध्यक्ष यूक्रेन पहुंचकर वहां की जनता की हौसला आफजाई कर रहे हैं. शनिवार पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा अचानक यूक्रेन पहुंचे. डूडा के कार्यालय ने के मुताबिक इसके बाद रविवार को देश की संसद को संबोधित करेंगे.

डोनावास में हमले तेज
इस बीच रूस ने एक तरह से यूक्रेन के बंदरगाह शहर मारियुपोल को पूरी तरह कब्जा कर लिया है. मारियुपोल में एक इस्पात केंद्र पिछले कुछ दिनों से यूक्रेन और रूस के बीच संघर्ष का केंद्र था लेकिन इस पर रूस ने अब कब्जा कर लिया है. रूसी रक्षा मंत्री ने दावा किया है कि यह महत्वपूर्ण बंदरगाह शहर अब उसके कब्जे में है. मारियुपोल के बाद रूसी बलों ने यूक्रेन के औद्योगिक नजरिये से अहम क्षेत्र डोनबास में हमले तेज करते हुए मिसाइलें दागीं, जिसका मकसद रूस-समर्थित अलगाववादियों के नियंत्रण वाले क्षेत्र का विस्तार करना है.

पोलैंड में लाखों शरणार्थी
यूक्रेन में युद्ध शुरू होने के बाद से पोलैंड में लाखों यूक्रेनी शरणार्थी गए हैं. पोलैंड यूरोपीय संघ में शामिल होने की यूक्रेन की इच्छा का बड़ा समर्थक है. रूस ने यूक्रेन के बंदरगाहों को बाधित कर दिया है, ऐसे में युद्धग्रस्त देश में पश्चिमी देशों की ओर से मानवीय मदद एवं हथियार पोलैंड के जरिये भेजे जा रहे है. जेलेंस्की ने शनिवार को इस बात पर जोर दिया था कि रूसी हमले के मद्देनजर यूरोपीय संघ को यूक्रेन के 27 देशों के इस संघ में शामिल होने की इच्छा पर जल्द से जल्द विचार करना चाहिए.

Tags: Russia, Ukraine



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here