डोनेट्स्क में रूसी हमले से 29 नागरिकों की मौत, यूक्रेन में होगा कैबिनेट फेरबदल


Russia-Ukraine War News Update: रूस और यूक्रेन के बीच जंग के 137 दिन हो चुके हैं. रूसी सैनिकों ने यूक्रेन के शहर डोनेट्स्क में एक अपार्टमेंट पर मिसाइल से हमला कर दिया, जिसमें 29 लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने 24 शव बरामद कर लिए हैं. मलबे से 6 घायल लोगों को भी निकाला गया है. जंग के बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडोमिर जेलेंस्की ने ऐलान किया है कि वे जल्द ही कैबिनेट फेरबदल करेंगे. उन्होंने कहा कि विदेश नीति को मजबूत करने और भ्रष्टाचार को रोकने के लिए यह फैसला किया गया है.

जेलेंस्की के बयान के बाद माना जा रहा है कि यूक्रेन के विदेश मंत्री बदले जा सकते हैं. पिछले दिनों ही जेलेंस्की ने भारत समेत 9 देशों से अपने राजदूत हटाने का निर्देश दिया था.

इसके साथ ही आइए जानते हैं रूस और यूक्रेन की जंग के बड़े अपडेट्स…

डोनेट्स्क के अलावा सोमवार को रूस ने खार्किव शहर पर भी तीन रॉकेट दागे. इसमें करीब 8 लोगों की मौत हो गई है. यूक्रेन इमरजेंसी विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि 30 हजार लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया है. रूस खार्किव और डोनेट्स्क पर कभी भी कब्जा का ऐलान कर सकता है.

यूक्रेन में रूस का प्रभाव बढ़ाने में लगे व्लादिमीर पुतिन ने नया दांव खेला है. पुतिन ने सोमवार को यूक्रेन के सभी लोगों को रूसी नागरिकता प्रदान करने के लिए त्वरित प्रक्रिया का विस्तार करते हुए एक आदेश पर हस्ताक्षर किए.

हाल तक यूक्रेन के डोनेट्स्क, लुहांस्क क्षेत्र के साथ दक्षिणी जापोरिजिया और खेरसोन क्षेत्र के लोगों के लिए ही नागरिकता की प्रक्रिया सरल थी. मगर, अब पूरे यूक्रेन के नागरिक आसानी से रूस की नागरिकता ले सकेंगे. नए नियम के बाद पुतिन ने सभी यूक्रेनियों से अपील की है कि आप रूस की नागरिकता लें.

सोमवार को रूसी सेना ने यूक्रेनी खारकीव शहर पर जबरदस्त गोलाबारी की, जिसमें 3 लोगों की मौत हो गई और 28 लोग घायल हो गए हैं.

यूक्रेन के पूर्वी और दक्षिणी क्षेत्र के लुहांस्क, दोनेस्क, खेरसॉन और मारियुपोल शहरों पर रूसी सेना पहले ही कब्जा जमा चुकी है. खारकीव क्षेत्र के गवर्नर ने कहा रूसी सेना ने पूर्वोत्तर शहर पर तीन मिसाइलें दागीं और इनसे सिर्फ नागरिक ठिकानों को ही निशाना बनाया गया.

रूस-यूक्रेन युद्ध के नतीजे काफी भयावह साबित हो रहे हैं. इनसे सांस्कृतिक व कलात्मक केंद्र भी खतरे में हैं. इनमें दीर्घाएं, पुस्तकालय, अभिलेखागार, संग्रहालय और विश्वविद्यालयों शामिल हैं. युद्ध में रूसी सेना ने यूक्रेन के कई सांस्कृतिक व कला केंद्रों को नष्ट कर दिया है.

इस बीच, कीव के मैडन संग्रहालय के सामान्य निदेशक, इहोर पोशीवेलो ने विश्व समुदाय से पुतिन के ‘छद्म इतिहास’ का मुकाबला करने की अपील की.

रूस अपने कब्जे वाले यूक्रेन के दक्षिणी क्षेत्र स्थित स्कूलों को फिर से खोल रहा है. इनमें रूस समर्थक कोर्स शुरू किया गया है. खेरसॉन और जापोरिझिया जैसे क्षेत्रों में रहने वाले माता-पिता को धमकी दी जा रही है कि अगर वे रूसी पासपोर्ट नहीं लेते और अपने बच्चों को वे रूस समर्थक स्कूलों में नहीं भेजते हैं तो उनके पेरेंट संबंधी अधिकार छीन लिए जाएंगे.

रूस के कब्जे वाले क्षेत्रों में यूक्रेनी इंटरनेट और सेलुलर-सेवा प्रदाताओं और बाहरी मीडिया से काट दिया गया है. टेलीविजन पर केवल रूसी प्रोग्राम दिखाए जा रहे हैं.

रूसी सैनिक यूक्रेन के इतिहास की किताबों को जला रहे हैं और स्कूलों में बच्चों को यूक्रेन से नफरत का पाठ सिखा रहे हैं. इनमें बताया जा रहा है कि वर्तमान युद्ध शुरू करने के लिए यूक्रेन ही दोषी है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : July 12, 2022, 10:08 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here