दुनिया भर में करीब 6 करोड़ लोग अपने ही देश में हुए विस्‍थापित, रिपोर्ट में हुआ खुलासा


जिनेवा. हाल ही में जारी की गई एक रिपोर्ट में सामने आया है कि 2021 में प्राकृतिक आपदा और युद्ध के चलते करीब 6 करोड़ लोगों को अपने ही देश में घर छोड़ने पर मजबूर होने पड़ा. इस वजह से आंतरिक रूप से विस्थापित लोगों की संख्या ने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है. अंतरराष्‍ट्रीय गैर सरकारी संस्‍था इंटरनल डिस्‍प्‍लेसमेंट मॉनिटरिंग सेंटर ( IDMC) और नॉर्वेजियन रिफ्यूजी काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक यूक्रेन में बड़े पैमाने पर हुए विस्थापन के चलते आंकड़ा अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है. IDMC की स्‍थापना जिनेवा में नॉर्वेजियन रिफ्यूजी काउंसिल ने 1998 में की थी.

दोनों की साझा रिपोर्ट के मुताबिक, 2021 में करीब 5 करोड़ 91 लाख लोगों को अपना घर को छोड़ने पर मजूबर होना पड़ा है. ऐसी आशंका है कि इस साल भी रिकॉर्ड टूट सकता है, क्‍योंकि यूक्रेन (Ukraine) में युद्ध के कारण लाखों लोगों को घर छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा है. एएफपी के अनुसार रिपोर्ट में लोगों के घर छोड़ने का दूसरा बड़ा कारण जलवायु परिवर्तन को बताया गया है. इसके कारण वैश्विक तापमान में बढ़ोतरी हुई, जिससे समुद्र का स्तर और अम्लीयता दोनों में काफी इजाफा हुआ है. इस कारण से समुद्र तटों के करीब रहने वाले लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा. इसी तरह चक्रवात के चलते भी लाखों लोगों को बेघर होना पड़ा. अहम बात यह है कि इसमें से लाखों लोग ऐसे हैं जो दोबारा अपने घर वापस नहीं जा सके हैं.

रूस और यूक्रेन युद्ध के कारण दुबई में बस रहे लोग
रिपोर्ट के अनुसार लाखों लोगों ने यूक्रेन युद्ध के कारण देश में ही अपना नया ठिकाना चुना है और अपना पुराना घर छोड़ दिया है. वहीं हजारों लोगों ने यूक्रेन को छोड़ अन्‍य देशों की शरण ले ली है. वहीं खबर यह भी है कि रूस के अमीरों ने दुबई में नया आशियाना खरीदा और वे वहां बस रहे हैं. युद्ध के बाद दुबई में संपत्ति के दामों में तेज उछाल देखने को मिला है.

Tags: Russia, Russia ukraine war, Ukraine



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here