नाटो के इस कदम से आग बबूला हो सकता है रूस, कुनबे को बढ़ाने के लिए हुई अहम बैठक


बर्लिन. जिस बात के लिए रूस ने यूक्रेन पर हमला किया है, उसी बात को आगे ले जाने की कोशिश में नाटो लगा हुआ है. अगर ऐसा हुआ तो रूस आग बबूला हो सकता है. दरअसल, रूस किसी भी कीमत पर अपने पड़ोसी देशों को नाटो यानी उत्तर अटलांटिक संधि संगठन का हिस्सा नहीं बनने देना चाहता है लेकिन नाटो रूस के पड़ोसी देश फिनलैंड और स्वीडन को अपने संगठन का हिस्सा बनाना चाहता है. इसके लिए नाटो उप महासचिव मिर्सिया जियोना की अध्यक्षता में बर्लिन में एक बैठक की गई है जिसमें नाटो के विस्तार पर चर्चा हुई है. नाटो महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग फिलहाल कोरोना से संक्रमित हैं और कोविड-19 संक्रमण से उबर रहे हैं.

फिनलैंड और स्वीडन को नाटो में शामिल करने पर चर्चा

बर्लिन में जिस एक प्रमुख मुद्दे पर चर्चा हो रही है, वह नाटो का उसके मौजूदा 30 सदस्य देशों से आगे विस्तार करना है. फिनलैंड और स्वीडन ने गठबंधन में शामिल होने की दिशा में पहले ही कदम उठाए हैं. वहीं मास्को की चेतावनी के बावजूद जॉर्जिया के नाटो का हिस्सा बनने के प्रयास पर भी चर्चा की गई. रूस ने अपने पड़ोसी देश जॉर्जिया के नाटो का हिस्सा बनने के परिणामों को लेकर सख्त चेतावनी दी है. जियोना ने कहा, फिनलैंड और स्वीडन पहले से ही नाटो के सबसे करीबी साझेदार हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि सहयोगी उनके आवेदनों को सकारात्मक रूप से देखेंगे. उन्होंने कहा कि जॉर्जियाई अधिकारियों को मैड्रिड में आगामी नाटो शिखर सम्मेलन में आमंत्रित किया जाएगा.


रूस की सैन्य ताकत लड़खड़ा रही-नाटो

बर्लिन की बैठक में नाटो ने यूक्रेन को हरसंभव मदद देने की अपनी वचनबद्धता को दोहराया है और कहा है कि यूक्रेन युद्ध जीतने की स्थिति में है. नाटो की उप महासचिव मिर्सिया जियोना ने कहा, यूक्रेन के समर्थक एकजुट हैं, हम मजबूत हैं, इस युद्ध को जीतने में यूक्रेन की मदद करना जारी रखेंगे. नाटो के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यूक्रेन में रूस की सैन्य प्रगति लड़खड़ाती नजर आ रही है. साथ ही, उम्मीद जतायी कि कीव युद्ध जीत सकता है. नाटो के शीर्ष राजनयिक रविवार को बर्लिन में बैठक कर रहे हैं. नाटो के अधिकारी यह बैठक यूक्रेन को और समर्थन प्रदान करने और रूस से खतरों के मद्देनजर पश्चिमी सैन्य गठबंधन में शामिल होने संबंधी फिनलैंड, स्वीडन और अन्य देशों के कदमों पर चर्चा करेंगे. नाटो उप महासचिव मिर्सिया जियोना ने कहा, रूस का क्रूर आक्रमण गति खो रहा है. हम जानते हैं कि यूक्रेन के लोगों और सेना की बहादुरी से और हमारी मदद से यूक्रेन इस युद्ध को जीत सकता है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : May 15, 2022, 16:40 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here