‘पत्थर दिल’ है यह मछली, छूते ही शरीर से छोड़ देती है जहर का जानलेवा गुबार


stonefish, poisonous fish, neurotoxin poison- India TV Hindi News

Image Source : FILE
दुनिया की सबसे खतरनाक मछलियों में से एक है स्टोनफिश।

समुद्र और उसके अंदर बसी रंग-बिरंगी दुनिया रहस्यों और आश्चर्यों से भरी है। इसमें कई अजूबे हैं, कुछ खूबसूरत तो कुछ खतरनाक। ऐसी ही एक खतरनाक मछली है स्टोनफिश। किसी पत्थर के जैसी दिखने वाली यह फिश अकसर समुद्र के किनारे आकर आराम करती है। ये दिखने में भले ही छोटी है, लेकिन बेहद खतरनाक है। यह दुनिया की सबसे जहरीली मछली है। आए दिन समुद्र में मछुआरों की मौत इस मछली के कारण होती है। यह मछली यदि न भी काटे तो भी मौत का कारण बनती है।

दरअसल, यह जहर उगलने के लिए जानी जाती है। इनके शरीर में विष ही विष पाए जाते हैं। इसलिए इससे स्पर्श होते ही इंसान सहित अन्य समुद्री जीवों का मरना लगभग तय हो जाता है। यही वजह है कि समुद्र किनारे स्टोनफिश से बचने की चेतावनी लिखी होती है। जब भी समुद्री बीच पर स्टोनफिश आराम फरमाते हुए दिखे आपको तुरंत दूर भाग जाना चाहिए। ये मछली कितनी खतरनाक है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अकेले ऑस्ट्रेलिया में हर साल करीब एक हजार लोग स्टोनफिश के डंक के शिकार होते हैं।

प्रशांत और हिंद महासागरों के पास रहने वाले लोगों के लिए यह फिश बड़ी चुनौती बनी हुई है। फ्लोरिडा और कैरिबियन के लोग इसे सबसे खतरनाक मछली मानते हैं। 

उगलती है न्यूरोटॉक्सिन जहर

स्टोनफिश मछली न्यूरोटॉक्सिन जहर के कारण खौफ कायम करती है। इनका शरीर जब किसी पदार्थ से टकराता है, तब यह न्यूरोटॉक्सिन जहर को अपनी स्किन के द्वारा बाहर निकालती है। जैसे ही यह जहर आपके किसी अंग को स्पर्श करता है, वैसे ही आप बेहोश हो जाएंगे। जान बचाने के लिए जहर से प्रभावित अंग को काटना पड़ता है। इसके बावजूद भी जान बचने की संभावना बहुत कम होती है।

रहस्यमयी शारीरिक बनावट
इस मछली के बारे में जानकारी होने के बावजूद भी आए दिन लोग इस जहरीली मछली के कारण जान गंवाते हैं। दरअसल, समुद्र में यह बिल्कुल पत्थर की तरह नजर आती है। जल और पत्थरों के बीच यह मछली इंसान के पहचान में नहीं आती है। यही कारण है कि जागरूक लोग भी स्टोनफिश से धोखा खा जाते हैं।

जहर छोड़ने में लेती है मात्र आधा सेकंड
स्टोनफिश मछली काफी तेज गति से जहर छोड़ती है। पलक झपकते ही यह अपना शिकार कर लेती है। आपको सचेत होने का मौका भी नहीं देती है। आधे सेकंड में यह आपको खतरे में डाल सकती है। खारे पानी में पाई जाने वाली स्टोनफिश समुद्र में बहुत कम स्पीड से तैरती है। लेकिन जब यह शिकार करती है तब इनकी स्पीड बहुत तेज होती है। दरअसल मात्र 15 सेकंड में यह अपने शिकार तक पहुंच जाती है। 

गोताखोरों को बचने के लिए दी जाती है ट्रेनिंग
गोताखोर सबसे ज्यादा स्टोनफिश से ही डरते हैं। इस मछली का शिकार होने से बचने के लिए गोताखोर इन्हें भलीभांति पहचानने के लिए प्रयत्न करते हैं। यह 40 सेंटीमीटर लंबी होती है। इनका औसतन वजन 2 किलोग्राम होता है। इसमें कुल 13 स्पाइंस पाए जाते हैं। इनके सभी स्पाइंस में न्यूरोटॉक्सिन जहर भरे होते हैं।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here