पाकिस्तानी नागरिकों के अपराधों से परेशान हुआ तुर्की, रेजिडेंस परमिट देना किया बंद


नई दिल्ली. तुर्की में पाकिस्तानी नागरिकों द्वारा बड़े पैमाने पर की गई आपराधिक गतिविधियों ने देश के अधिकारियों को चिंतित कर दिया है. अब तुर्की ने सख्ती दिखाते हुए पाकिस्तानी नागरिकों के लिए अपनी वीजा नीतियों को कड़ा कर दिया है. स्थानीय मीडिया के अनुसार, देश की सरकार ने यह कदम इस्तांबुल में चार नेपाली नागरिकों के अपहरण में पाकिस्तानी नागरिकों की संलिप्तता सामने आने के कुछ दिनों बाद उठाया है. इतना ही नहीं, तुर्की सरकार ने पाकिस्तानियों को अस्थायी निवास परमिट जारी करना भी बंद कर दिया है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस्तांबुल में पाकिस्तानी लोगों ने चार नेपालियों का अपहरण कर लिया था. आरोपियों ने शहर के तकसीम चौक पर अपहरण की घटना को अंजाम दिया था. नेपाली उस क्षेत्र में घूम रहे थे जब उन्हें बंदूक की नोक पर अगवा कर एक घर ले जाया गया. अपहृत लोगों के साथ दुर्व्यवहार किया गया, और जब उन्हें घर ले जाया जा रहा था, तो उनके टेप बनाए गए.

पाकिस्तानी अपहरणकर्ताओं पर लगे थे ये आरोप
अपहरणकर्ताओं ने रिहाई के लिए दस हजार यूरो की फिरौती मांगी थी. 16 से 35 वर्ष की आयु के संदिग्धों पर डकैती, अपहरण, जानबूझकर चोट पहुंचाने और बंदूक कानून का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया था. पाकिस्तानी बदमाशों के एक अन्य समूह को पिछले साल इस्तांबुल में अपने ही देश के एक साथी का अपहरण करने और 50,000 यूरो की फिरौती मांगने के बाद पकड़ा गया था.

पाकिस्तानी नागरिकों को सता रहा है इस बात का डर
अपहरण की तुर्की में रहने वाले पाकिस्तानियों ने निंदा की है. उन्हें इस बात की चिंता सता रही है कि दुनिया में कहीं और इसी तरह की घटनाएं पाकिस्तान की छवि खराब कर सकती है. घटना से पहले, तुर्की के अधिकारियों ने पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को सत्ता से हटाने के विरोध में प्रदर्शन कर रहे कुछ पाकिस्तानी नागरिकों को हिरासत में लिया था. हालांकि, तुर्की में पाकिस्तानी राजनयिकों के हस्तक्षेप के बाद, उन्हें बाद में रिहा कर दिया गया.

इस्तांबुल, अंकारा और तुर्की के आसपास के अन्य प्रमुख शहरों में बड़ी संख्या में पाकिस्तानी रहते हैं और काम करते हैं. इसके साथ ही, पर्यटन के लिए हर महीने सैकड़ों पाकिस्तानी नागरिक अंतरमहाद्वीपीय देश की यात्रा करते हैं.

Tags: Pakistan, Turkey



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here