बड़ी राहत! WHO ने कहा, यूरोप में धीमी हो रही है मंकीपॉक्स महामारी की रफ्तार


जेनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक दुनिया भर में मंकीपॉक्स के मामले अचानक बढ़ने के हफ्तों बाद, अब महामारी धीमी हो सकती है. संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने कथित तौर पर मंगलवार को कहा कि उन्होंने ‘सकारात्मक’ संकेत देखे हैं कि यूरोप में महामारी कम हो रही है. यूरोप के डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय निदेशक हैंस क्लुग ने कहा, ‘फ्रांस, जर्मनी, पुर्तगाल, स्पेन, यूके और अन्य देशों में उत्साहजनक शुरुआती संकेत हैं कि इसका प्रकोप धीमा हो सकता है.’

हालांकि, लोगों को अपनी सुरक्षा को कम करने से रोकने के लिए, क्लुग ने यह भी सलाह दी कि वायरस को पूरी तरह से खत्म करने के लिए और कदम उठाने की जरूरत है. उन्होंने आगे कहा, ‘यह सही दिशा में जा रहा है. हालांकि, हमारे क्षेत्र में इस महामारी को खत्म करने लिए हमें अपने प्रयासों को तुरंत तेज करने की जरूरत है.’

डब्ल्यूएचओ की ओर से 25 अगस्त को जारी रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर में बीते सप्ताह मंकीपॉक्स के मामलों में 21 प्रतिशत की कमी आई है. संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी डब्ल्यूएचओ ने कहा कि बीते सप्ताह मंकीपॉक्स के 5,907 मामले दर्ज किए गए. उसने बताया कि दो देशों ईरान व इंडोनेशिया में इसका पहला मामला सामने आया है. अप्रैल के अंत से लेकर अब तक 98 देशों में मंकीपॉक्स के 45,000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं.

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि बीते महीने दुनियाभर में मंकीपॉक्स के जितने मामले सामने आए हैं, उनमें से 60 प्रतिशत अमेरिका से सामने आए. यूरोप में 38 प्रतिशत मामले सामने आए. जुलाई के आरंभ में डब्ल्यूएचओ-यूरोप के निदेशक हैंस क्लूज ने कहा था कि संक्रमण के जितने मामले सामने आए है, उनमें से 90 प्रतिशत यूरोपीय देशों में सामने आए हैं.

ब्रिटेन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने पिछले सप्ताह दैनिक मामलों में गिरावट देखने के बाद कहा था कि देश में मंकीपॉक्स का प्रकोप धीमा पड़ रहा है, इसके ‘शुरुआती संकेत’ मिलने लगे हैं. डब्ल्यूएचओ की ताजा रिपोर्ट के आधार पर यह माना जा रहा है कि यूरोप में मंकीपॉक्स के प्रसार में कमी आनी शुरू हो गई है. डब्ल्यूएचओ यूरोप क्षेत्र के अंतर्गत कुल 53 देश आते हैं, जहां दुनिया भर के कुल मंकीपॉक्स मामलों के एक-तिहाई से अधिक केस सामने आए हैं.

Tags: Monkeypox, WHO



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here