मंदी की चपेट में आ सकती है अमेरिकी अर्थव्यवस्था, मिलने लगे हैं इसके संकेत


US economy - India TV Hindi News
Image Source : IANS
US economy

US recession: अमेरिकी अर्थव्यवस्था में नई स्थिति और अमेरिकी फेडरल रिजर्व के नीति संकेतों को लेकर कई अर्थशास्त्रियों ने हाल ही में कहा कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है, और आर्थिक मंदी साल 2023 या उससे भी ज्यादा समय तक चल सकती है।

इसलिए बढ़ी देश में मंदी की आशंका


अमेरिका में मंदी की आहट सुनाई देने लगी है। महंगाई चरम पर पहुंच चुकी है, ब्याज दरें बढ़ रही हैं और मकानों की बिक्री लगातार घट रही है। कैलेंडर वर्ष 2022 की पहली तिमाही में अमेरिका की GDP में गिरावट आई है। अमेरिकी शेयर बाजार के लिए भी अप्रैल का महीना काफी खराब रहा था। नैसडैक के लिए अप्रैल का महीना अक्टूबर 2008 के बाद सबसे खराब महीना रहा। S&P के लिए भी यह महीना मार्च 2020 के बाद सबसे बुरा रहा। इससे देश में मंदी की आशंका और बढ़ गई है। कई जानकारों का कहना है कि ये मंदी के संकेत हैं।

ब्रिटिश मीडिया ने हाल ही में एक सर्वेक्षण जारी किया जिसमें कहा गया है कि अमेरिकी अचल संपत्ति की कीमतें बहुत ज्यादा हैं, बढ़ती बांड दरों के साथ, अचल संपत्ति की वृद्धि बहुत धीमी हो जाएगी। आर्थिक क्षेत्र के एक महत्वपूर्ण हिस्से के रूप में, अमेरिकी रियल एस्टेट बाजार पर दबाव ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया है। विश्लेषकों का मानना है कि ऐसे में अमेरिकी अर्थव्यवस्था गंभीर मंदी की चपेट में आ सकती है।

‘अमेरिका में भविष्य में और ज्यादा गंभीर आर्थिक मंदी हो सकती है’

येल विश्वविद्यालय के एक वरिष्ठ शोधकर्ता स्टीफन रोच का मानना है कि अमेरिका के वर्तमान आर्थिक प्रदर्शन से पता चलता है कि भविष्य में और अधिक गंभीर आर्थिक मंदी हो सकती है, और यह 2024 तक भी रहेगी।

कई देशों के विशेषज्ञों का मानना है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था के सामने चुनौतियां ज्यादातर मौद्रिक नीति सहित अपने स्वयं के कारकों के कारण हैं, और इसका स्पिलओवर प्रभाव वैश्विक आर्थिक सुधार को नीचे खींचेगा और विकासशील देशों और उभरती अर्थव्यवस्थाओं के लिए गंभीर चुनौतियां लाएगा।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here