मारियुपोल में हर बिल्डिंग से निकाले जा रहे 50-100 शव, पढ़ें यूक्रेन जंग के अपडेट्स


Russia-Ukraine War News Update: रूस-यूक्रेन जंग को 106वें दिन हो चुके हैं. गुरुवार को सेवेरोदोनेस्क में दोनों सेनाओं के बीच जबरदस्त संघर्ष हुआ. रूसी सेना वह सब कुछ नष्ट कर रही थी जिसका इस्तेमाल रक्षा के लिए किया जा सकता था. यूक्रेनी रक्षामंत्री ने कहा कि युद्ध में हर दिन हमारे 100 सैनिक मारे जा रहे हैं. उधर, मारियुपोल में नष्ट हुई प्रत्येक इमारत से 50 से 100 शव निकाले जा रहे हैं. एक अधिकारी ने इसे मौत का अंतहीन कारवां बताया.

इस बीच रूसी सेना के एक अधिकारी ने ये दावा क‍िया है क‍ि यूक्रेन को पश्च‍िमी देशों से म‍िली तोपें रूस ने तबाह कर द‍िया है. रूसी अधिकारी के मुताबिक हमले के दौरान नार्वे से म‍िली होव‍ित्सर तोपें और अमेरिका से म‍िली आर्ट‍िलरी स‍िस्टम को नुकसान पहुंचा है.

इसके साथ ही आइए जानते हैं रूस और यूक्रेन जंग के 10 अपडेट्स…

रूसी अधिकारी ने दावा किया कि उसका मकसद डोनबास पर कब्जा करने का है. ज‍िसमें वे करीब-करीब कामयाब हो गए हैं. इसके 97% इलाके पर रूस का कब्जा हो गया है.

इधर, यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसके सैनिकों ने दक्षिणी यूक्रेन के खेरसॉन इलाके में जवाबी कार्रवाई के दौरान रूसी सेना से कुछ इलाके वापस ले लिया है. हालांकि, न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने रक्षा मंत्रालय के इस दावे पर असमर्थता जताई है.

यूक्रेन के निप्रॉपेट्रोस इलाके के मिलिट्री एडमिनिस्ट्रेशन के चीफ वैलेंटाइन रेज्निचेंको का कहना है कि देश के मध्य भाग में स्थित क्रिवी रिह शहर में रूसी सैनिक लगातार गोलीबारी कर रही है. इलाके में जेलेनोडॉल्स्क और शिरोकिव के समुदाय सबसे अधिक पीड़ित हैं.

रेज्निचेंको ने कहा कि रूसी हमले में दुर्भाग्य से वहां छह लोगों की मौत हो गई. रूसी हमले में 179 घर, दो स्कूल, एक किंडरगार्टन और एक अस्पताल नष्ट हो गए.

उधर, खारकीव के मिलिट्री एडमिनिस्ट्रेशन के चीफ ओलेह सिनीहुबोव के मुताबिक खारकीव में रूसी हमलों में पांच लोग मारे गए और 14 घायल हो गए.

रूसी समर्थकों ने मॉस्को में यूक्रेन के पक्ष में लड़ने वाले दो ब्रिटिश नागरिक की हत्या कर दी. यूक्रेन के नेता ने कहा कि रूस साउथ-ईस्ट शहर पर कब्जा करने की कोशिश कर रहा है.

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने कहा कि जंग समाप्त करने को लेकर रूस अभी भी बातचीत करने को तैयार नहीं है. रूस अब भी खुद को ताकतवर को समझता है. जेलेंस्की ने अमेरिका के इंडस्ट्रियल लीडर नेताओं से कहा कि रूस का अभी बातचीत के लिए आना संभव नहीं है.

दुनिया में खाद्यान संकट, यानी फूड क्राइसिस बढ़ता जा रहा है. यूक्रेन और रूस दोनों ही फूड का एक बड़ा हिस्सा एक्सपोर्ट करते हैं. हालांकि, रूस के विदेश मंत्री लावरोव ने कहा- ‘रूस और यूक्रेन की जंग का ग्लोबल फूड क्राइसिस से कोई लेना-देना नहीं है. पश्चिमी देश और खासतौर पर अमेरिका अफवाहें फैला रहे हैं.’

लंबे समय से यूरोप की ब्रेड बास्केट के रूप में पहचाने जाने वाले यूक्रेन से गेहूं, मक्का और सूरजमुखी का तेल दुनिया के किसी भी हिस्से में सप्लाई नहीं हो पा रहा है. इसका बड़ा कारण काला सागर पर रूसी नाकाबंदी है. यूक्रेन में अनुमानित 2.2 करोड़ टन अनाज बाहर नहीं भेजा जा पा रहा है.

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की को 28-29 जून को मैड्रिड में नाटो शिखर सम्मेलन में आमंत्रित किया जाएगा. नाटो के उप महासचिव मिरसिया जियोना ने कहा कि नाटो से यूक्रेन पर शिखर सम्मेलन में निर्णय लेने की उम्मीद है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : June 10, 2022, 07:21 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here