मैक्रों ने 12 साल की उम्र में कराई बपतिस्मा, सिविल सर्वेंट की नौकरी छोड़ ज्वॉइन की पॉलिटिक्स


पेरिस. फ्रांस की जनता ने एक बार फिर इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) को अपना राष्ट्रपति चुन लिया है. 44 वर्षीय इमैनुएल मैक्रों पिछले 20 साल में लगातार दोबारा चुने जाने वाले पहले फ्रांसीसी राष्ट्रपति बन गए हैं. इमैनुएल मैक्रों के मुकाबले में दक्षिणपंथी नेता मरीन ले पेन (Marine Le Pen) थीं. मैक्रों को जहां 58% वोट मिले वहीं पेन को सिर्फ 42 फीसदी ही वोट मिले.

फ्रांस में मतदान केंद्र रविवार, 24 अप्रैल को स्थानीय समय अनुसार सुबह 8 बजे खुले और अधिकांश स्थानों पर शाम 7 बजे बंद हो गए. इसके अलावा बड़े शहरों में मतदान केंद्र रात 8 बजे तक खुले रहे. फ्रांस में लगभग 48.7 मिलियन नागरिक मतदान के पात्र हैं. पिछले चुनावों में जहां इमिग्रेशन, धर्म-बनाम-धर्मनिरपेक्षता और पहचान जैसे मुद्दे हावी रहे थे. वहीं, इस बार का यह चुनाव आम जनता की क्रय शक्ति और सुरक्षा के मुद्दे पर लड़ा गया है.

फ्रांस में इमैनुएल मैक्रों ने फिर जीता राष्ट्रपति चुनाव, मरीन ले पेन को दी शिकस्त

आइए जानते हैं कौन हैं इमैनुएल मैक्रों…. राजनीति से आने से पहले वो क्या करते थे….

12 साल की उम्र में ली चर्च की सदस्यता
मैक्रों का जन्म उत्तरी फ़्रांस के अमिएं में जं-मिशेल मैंक्रों के घर हुआ. उनकी शुरुआती पढ़ाई अमिएं में ही हुई. उनका परिवार गैर-धार्मिक था, पर उन्होंने 12 साल की उम्र में अपनी इच्छा से बपतिस्मा कराई. ईसाईयत में बपतिस्मा (Baptizo) पानी के साथ किया जाने वाला एक धार्मिक प्रक्रिया है, जिसके बाद किसी व्यक्ति को चर्च की सदस्यता मिल जाती है.

पहले सीनियर सिविल सर्वेंट थे
मैक्रों ने फ्रांस के संभ्रांत स्कूल इकोले नेशनल डी’एडमिनिस्ट्रेशन में पढ़ाई की है. वह पहले सीनियर सिविल सर्वेंट थे. फिर कुछ वर्षों के लिए रोथ्सचाइल्ड में एक बैंकर के रूप में कार्य किये. उसके बाद वह समाजवादी राष्ट्रपति फ्रांसिस ओलांद के आर्थिक सलाहकार थे. वह 2014 से 2016 तक ओलांद की सरकार में अर्थव्यवस्था मंत्री नियुक्त किए जाने के बाद वह पर्दे के पीछे से काम करने वाले की भूमिका से निकलकर राजनीतिक परिदृश्य पर आये.

39 साल की उम्र में पहली बार चुने गए राष्ट्रपति
जब इमैनुएल मैक्रों 2017 में राष्ट्रपति चुने गए, तब वे फ्रांस के इतिहास में केवल 39 वर्ष की आयु में राष्ट्रपति बनने वाले सबसे कम उम्र के राष्ट्रपति बने थे. उन्होंने पारंपरिक पार्टियों को चुनौती देने के लिए La République En Marche! नाम का एक मध्यमार्गी राजनीतिक आंदोलन शुरू किया था.

‘यूक्रेन देखेगा इससे बुरा दौर…’ पुतिन से 90 मिनट की बात के बाद फ्रांसीसी राष्ट्रपति की दुनिया को चेतावनी

ड्रामा टीचर ब्रिगिट से की शादी
उन्होंने अपने पूर्व ड्रामा टीचर ब्रिगिट से शादी की, जो उनसे 24 साल बड़ी हैं. अब ब्रिगिट की दोस्त और फ्रेंच पत्रकार गेल चकलॉफ ने एक किताब में बताया है कि कैसे राष्ट्रपति अपनी पत्नी से बिना बात किए डेढ़ घंटे से ज्यादा नहीं रह पाते हैं. किताब में यह भी दावा किया गया है कि ब्रिगिट से राष्ट्रपति अपना सारा कामकाज डिस्कस करते हैं. दोनों कोई काम एक-दूसरे की जानकारी के बिना नहीं करते हैं.

Tags: Emmanuel Macron, France, Russia ukraine war



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here