यूक्रेन जंग के बीच भारत पहुंच रहे हैं ये 8 बड़े यूरोपीय नेता, क्या है इरादा?


नई दिल्ली. ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) की भारत यात्रा बाद यूरोप के कम से कम आठ बड़े नेता और मंत्री अगले कुछ दिनों में भारत का दौरा करने वाले हैं. इन बड़े नेताओं में यूरोपीय आयोग (European Commission) की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन (Ursula von der Leyen) भी शामिल हैं. ये सभी नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मुलाकात करेंगे.

2019 तक चांसलर एंजेला मर्केल के तहत जर्मनी की रक्षा मंत्री रहीं वॉन डेर लेयेन सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगी, जहां रूस-यूक्रेन संघर्ष से उत्पन्न संकट पर चर्चा की उम्मीद है. पोलैंड, लिथुआनिया, स्लोवेनिया, पुर्तगाल, नीदरलैंड, नॉर्वे और लक्जमबर्ग के विदेश मंत्रियों के भी भारत में होने की उम्मीद है.

भड़क सकता है रूस! बोरिस जॉनसन ने जेलेंस्की से कहा, युद्ध में हथियारों की कमी नहीं होने देंगे

ये सभी नेता रायसीना डायलॉग के लिए आ रहे हैं। गौरतलब है कि विदेश मंत्रालय और ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा वैश्विक भू-राजनीतिक एवं भू-आर्थिक चुनौतियों पर विचारों के आदान प्रदान के प्रमुख प्लेटफॉर्म रायसीना डायलॉग का सातवां संस्करण 25-27 अप्रैल तक नई दिल्ली में आयोजित हो रहा है।

इस दौरान ये नेता भारतीय वार्ताकारों के साथ यूक्रेन में युद्ध पर चर्चा कर सकते हैं. प्रधानमंत्री जॉनसन ने भी भारतीय नेतृत्व के साथ युद्ध पर चर्चा की थी. अर्जेंटीना, आर्मेनिया, गुयाना, नाइजीरिया, मेडागास्कर और फिलीपींस के विदेश मंत्रियों के भी सम्मेलन में भाग लेने की उम्मीद है.

स्वीडन के पूर्व पीएम कार्ल बिल्ड्ट, कनाडा के पूर्व पीएम स्टीफन हार्पर, मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद और पूर्व ऑस्ट्रेलियाई पीएम एंथनी एबॉट के भी मौजूद रहने की संभावना है.

फ्रांस में इमैनुएल मैक्रों ने फिर जीता राष्ट्रपति चुनाव, मरीन ले पेन को दी शिकस्त

आज से शुरू होने वाला यह सम्मेलन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस साल अपनी पहली विदेश यात्रा पर जर्मनी और डेनमार्क के रवाना होने से एक सप्ताह पहले होगा. वह रविवार को फ्रांस के राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे के आधार पर फ्रांस भी जा सकते हैं.

बर्लिन में, प्रधानमंत्री कोपेनहेगन जाने से पहले 2 मई को चांसलर ओलाफ स्कोल्ज से मुलाकात करेंगे, जहां वह भारत-नॉर्डिक शिखर सम्मेलन के लिए डेनमार्क, फिनलैंड, आइसलैंड, स्वीडन और नॉर्वे के प्रधानमंत्रियों से मिलेंगे। वहां भी, यूक्रेन-रूस संकट एजेंडे में शीर्ष पर रहने की उम्मीद है. (एजेंसी इनपुट के साथ)

Tags: Boris Johnson, Narendra modi



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here