रूसी सेना ने यूक्रेन में की भारी गोलाबारी, 5 नागरिकों की मौत और 18 घायल


Russian army opened heavy fire in Ukraine, 5 civilians killed and 18 injured- India TV Hindi News
Image Source : PTI
Russian army opened heavy fire in Ukraine, 5 civilians killed and 18 injured

Highlights

  • खारकिव में लोगों को डराने का आरोप
  • यूक्रेनी रिफ्यूजी लौटना चाहते हैं अपने देश
  • रूस सपोर्टेड अलगाववादी 8 वर्षों से कर रहे बगावत

Russia Ukraine War: यूक्रेन में रूसी सेना की गोलाबारी में कम से कम 5 नागरिकों की मौत हो गई जबकि 18 अन्य लोग घायल हो गए हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय ने बुधवार को यह जानकारी दी। दोनेत्स्क एडमिनिस्ट्रेटिव हेड पावले कायरीलेंको ने कहा कि ज्यादातर लोगों की मौत दोनेत्स्क राज्य में हुई। यह राज्य उस इलाके का हिस्सा है जहां रूस सपोर्टेड अलगाववादी पिछले 8 वर्षों से बगावत कर रहे हैं। 

बाखमत शहर पर भी गोलाबारी

रूसी सैनिकों ने बाखमत शहर में भी भारी गोलाबारी की है। पड़ोसी नुहांस्क इलाके के गवर्नर सेरहीय हैदई ने कहा कि यूक्रेनी सैनिक रूसी गोलाबारी के बीच 2 गांवों पर दोबारा कंट्रोल करने के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं। रूसी तोपखाने ने उत्तर-पूर्व यूक्रेन में भी गोले दागे हैं जहां के रिजिनल गवर्नर ओलेग सायनीहुबोव ने रूसी सैनिकों पर खारकिव में लोगों को डराने का आरोप लगाया है। रूसी सैनिकों के यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में बढ़ने के बीच यूक्रेनी सेना ने दक्षिण में एक शहर पर फिर से अपना कंट्रोल करने का दावा किया है। यूक्रेन की सेना ने मंगलवार को दावा किया कि उसने नोवा काखोवका में एक रूसी गोला-बारूद डिपो को नष्ट करने के लिए मिसाइल दागी है। वहीं, रूस की समाचार एजेंसी तास ने कहा है कि धमाका एक फर्टीलाइजर स्टोरेज साइट पर हुआ। 

विदेशी लड़ाकों ने मौत की सजा के खिलाफ की अपील

इस बीच, अन्य घटनाक्रमों के तहत पूर्वी यूक्रेन के दोनेत्स्क में मास्को सपोर्टेड अलगाववादी सरकार के नेता ने कहा कि टेररिज्म के मामले में दोषी करार दिए गए विदेशी लड़ाकों ने अपनी मौत की सजा के खिलाफ अपील की है। यदि सेल्फप्रोक्लेमड दोनेत्स्क पीपुल्स रिपब्लिक की appellate court ने अपील खारिज कर दी तो ब्रिटेन के 2 नागरिकों और मोरक्को के 1 नागरिक की मौत की सजा एग्जीक्यूट कर दी जाएगी। वहीं, UN रिफ्यूजी एजेंसी ने कहा है कि ज्यादातर यूक्रेनी रिफ्यूजी अपने देश लौटना चाहते हैं लेकिन वे हालात के सुधरने का इंतजार कर रहे हैं।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here