रूस ने पेश किया अब तक का सबसे खतरनाक लेजर हथियार, क्या यूक्रेन युद्ध पर पड़ेगा इसका असर, जानें


नई दिल्ली. नई दिल्ली. एक तरफ लगातार तीन महीने से यूक्रेन युद्ध चल रहा है, तो दूसरी ओर रूस ने अब तक का सबसे खतरनाक लेजर हथियार को पेश किया है. बुधवार को रूस ने ऐसा खतरनाक लेजर हथियार को पेश किया जो 5 किलोमीटर दूर दुश्मन के ड्रोन को 5 सेकेंड के अंदर आग के गोलों में तब्दील कर दिया. दूसरी ओर यह भी दावा किया गया है कि इस लेजर हथियार से धरती से 1500 किलोमीटर दूर सैटेलाइट को भी निशाना बनाकर उसे निष्क्रिय कर सकता है. अब इस हथियार को अगर यूक्रेन में इस्तेमाल किया जाता है तो युद्ध की तस्वीर बदल सकती है. जैसा कि दावा किया जा रहा है कि इस हथियार से दुश्मन के किसी भी लक्ष्य को निशाना बनाया जा सकता है. इस खतरनाक लेजर हथियार की घोषणा पहली बार 2018 में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने किया था. उन्होंने कहा थथा कि यह हथियार किसी भी सैटेलाइट को अक्षम कर सकता है और ड्रोन को सेकेंड में तबाह कर सकता है.

1500 किलोमीटर दूर सैटेलाइट को पंगु बना सकता है
2018 में पुतिन ने इस तरह के कई खतरनाक हथियारों की श्रृंखला का अनावरण किया था जिनमें इंटरकंटीनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल, क्रूज मिसाइल में सेट होने वाला छोटा न्यूक्लियर वारहेड, अंडरवाटर न्यूक्लियर ड्रोन, सुपरसोनिक हथियार और लेजर हथियार शामिल थे. हालांकि इस खतरनाक लेजर हथियार के बारे में अभी लोगों को बहुत ज्यादा कुछ पता नहीं है. रूस ने इस लेजर हथियार का नाम मध्यकालीन योद्धा भिक्षु अलेक्जेंडर पेरसेवेट ( Alexander Peresvet ) के नाम पर पेरसेवेट (Peresvet) रखा है. पुतिन ने 2018 में बाकी हथियारों की विशेषताओं को बताया था लेकिन लेजर हथियार के बारे में जानकारी गुप्त रखी थी. रूस के उप प्रधानमंत्री युरी बोरिसोव (Yury Borisov) ने इस लेजर हथियार के बारे में बताते हुए कहा कि इस हथियार का इस्तेमाल पहले से ही कई जगह किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि यह हथियार अंतरिक्ष में 1500 किलोमीटर दूरी पर स्थित दुश्मन के सैटेलाइट को पंगु बना सकता है.

अमेरिका के लिए चिंता

यूरी बोरिसोव ने बताया कि परीक्षण के तौर इस लेजर हथियार का इस्तेमाल किया गया जिसमें 5 किलोमीटर दूर एक ड्रोन को पांच सेकेंड के अंदर आग के गोलों में बदल दिया गया. हालांकि रायटर ने इस दावे की पुष्टि नहीं की है. बोरिसोव ने बताया कि रूस की मिसाइल सेना में इस हथियार की आपूर्ति कर दी गई है. उन्होंने कहा कि यह लेजर हथियार 1500 किलोमीटर दूर किसी भी सैटेलाइट की टोही क्षमता को क्षण भर में निष्क्रिय या पंगु बना सकता है. यानी अगर कोई सैटेलाइट रूस की धरती की ओर टोह ले रहा है या जासूसी कर रहा है तो रूस इस लेजर हथियार से उस सैटेलाइट की जमीन की ओर देखने की क्षमता को खत्म कर सकता है. लेजर से निकलने वाले रेडिएशन उस सैटेलाइट को अक्षम कर सकता है. बोरिसोव ने कहा कि भविष्य में हमारे भौतिकविद जरूरत के हिसाब से इस लेजर हथियार को क्षमता को बढ़ा सकता है जिसके कारण इससे नुकसान बहुत ज्यादा हो सकती है. रूस के इस बयान से अमेरिका और चीन के कान खड़े हो सकते हैं क्योंकि अमेरिका के पास अंतरिक्ष में कई ऐसे सैटेलाइट हैं जो जमीन पर हो रही गतिविधियों का टोह लेते रहता है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : May 18, 2022, 23:14 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here