रूस से जंग के कारण 30 लाख यूक्रेनी बच्चों की पढ़ाई छूटी, पढ़ें बड़े अपडेट्स


Russia-Ukraine War News: यूक्रेन और रूस युद्ध को 100 दिन से भी ज्यादा हो गए हैं. जंग ने आम लोगों को बुरी तरह प्रभावित किया है. संयुक्त राष्ट्र संघ (UN) के मुताबिक, 30 लाख बच्चों की पढ़ाई छूट गई है. रूस धार्मिक स्थलों को भी लगातार निशाना बना रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक, रूसी हमलों में यूक्रेन के 113 चर्च तबाह हो गए हैं.

रूस ने मंगलवार को दावा किया कि उसने एक सप्ताह तक चली गोलाबारी और हाल में अधिक सैनिकों की तैनाती के बाद पूर्वी यूक्रेन के बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया है. रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने कहा कि मास्को की सेना ने लुहान्स्क क्षेत्र के 97 फीसदी हिस्से को मुक्त करा लिया है.

इसके साथ ही आइए जानते हैं यूक्रेन जंग के 10 अपडेट्स…

खार्किव में हुई रूसी बमबारी में 3 लोगों की मौत हो गई. 6 लोग घायल हो गए. इस हमले में यूक्रेन में रूसी तोपखाने को भारी नुकसान हुआ है.

रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने दावा किया कि रूसी सेना ने सिविएरोडोनेट्सक के आवासीय क्वार्टरों पर कब्जा कर लिया है. इसके बाहरी इलाके और आसपास के शहरों पर एक औद्योगिक क्षेत्र पर नियंत्रण करने के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं.

मारियुपोल के अजोवस्टल स्टील प्लांट में फंसे यूक्रेनी सैनिकों ने रूसी सेना के सामने सरेंडर कर दिया था. अब जानकारी मिली है कि इन सैनिकों को रूस भेजा जा रहा है. यूक्रेनी मीडिया के मुताबिक, करीब 1,000 सैनिकों को रूस भेजा गया है.

रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने कहा- ‘रूसी रेलवे और सेना एक साथ काम कर रही है. 1200 किलोमीटर की रेल पटरी शुरू हो गई है. इसके जरिए रूस, पूर्वी यूक्रेन और क्रीमिया के बीच यातायात को शुरू कर दिया गया है.’

इधर, ओडेसा रीजनल मिलिट्री एडमिनिस्ट्रेशन के प्रवक्ता सेरही ब्रैचुक ने कहा कि जंग इतनी खतरनाक हो गई है कि हर 5 मिनट में 1 रूसी सैनिक की मौत हो रही है.

ब्रिटिश सरकार ने घोषणा की है कि वह यूक्रेन को M270 वेपन सिस्टम देगा. यह नई तकनीक की हथियार है, जो सटीकता के साथ 80 किलोमीटर (करीब 50 मील) दूर तक दुश्मनों को मारने में सक्षम है. ब्रिटेन सरकार ने इस हथियार की घोषणा पिछले महीने ही की थी, हालांकि, इसकी डिलीवरी के बारे में कोई जानकारी नहीं दी थी.

इस बीच कीव में अजोवस्टल स्टीलवर्क्स में मारे गए कई यूक्रेनी लड़ाकों के शव के पोस्टमार्टम की योजना बनाई गई है. अजोव रेजिमेंट यूक्रेनी इकाइयों में से एक थी जिसने जमीन, समुद्र और हवा से लगातार रूसी हमलों के बाद मई में आत्मसमर्पण करने से पहले लगभग तीन महीने तक स्टीलवर्क्स की रक्षा की थी.

रूस की सेना ने सिविएरोडोनेत्स्क के करीब एक शहर लिसीचांस्क को लगभग पूरी तरह से अपने नियंत्रण में ले लिया है. उन्होंने कहा कि रूसी सैनिकों ने एक स्थानीय बाजार, एक स्कूल और एक कॉलेज की इमारत को नष्ट कर दिया.

रूसी सेना हमलों को अंजाम देने के लिए मल्‍टीपल रॉकेट लॉन्चर या एमआरएल का इस्तेमाल कर रही है. नीचे की तस्‍वीर में सेवेरोडोनेटस्‍क से करीब 11 किलोमीटर उत्तर पूर्व में एमआरएल को हरे-भरे खेतों में देखा जा सकता है, जिसमें रॉकेट पॉड्स सेवेरोडोनेटस्‍क की ओर हैं. इन एमआरएल में से एक के पीछे जमीन पर झुलसने के निशान हाल की फायरिंग गतिविधि का स्पष्ट संकेत हैं.

रूस की सेना ने सिविएरोडोनेत्स्क के करीब एक शहर लिसीचांस्क को लगभग पूरी तरह से अपने नियंत्रण में ले लिया है. उन्होंने कहा कि रूसी सैनिकों ने एक स्थानीय बाजार, एक स्कूल और एक कॉलेज की इमारत को नष्ट कर दिया.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : June 08, 2022, 12:11 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here