श्रीलंकाई नौसेना ने 51 नागरिकों को किया गिरफ्तार


Representational image- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO
Representational image

Highlights

  • अवैध रूप से ऑस्ट्रेलिया जाने के फिराक थे सभी
  • मछली पकड़ने वाली एक बोट में थे सवार
  • अब तक 3.5 अरब डॉलर की मदद दे चुका है भारत

Sri Lanka: श्रीलंकाई नौसेना ने अवैध रूप से समंदर के रास्ते देश छोड़कर ऑस्ट्रेलिया जा रहे 51 लोगों को रविवार को गिरफ्तार कर लिया है। आधिकारिक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी गई है। श्रीलंका में मौजूदा आर्थिक संकट के कारण बड़े पैमाने पर लोग देश छोड़कर जाने की कोशिश कर रहे हैं। पिछले हफ्ते के दौरान यह चौथी घटना है जब नौसेना ने अवैध रूप से देश छोड़ने की कोशिश कर रहे लोगों को गिरफ्तार किया है। सभी लोग समंदर में मछली पकड़ने वाली एक बोट में सवार थे। बोट को जब्त करने के बाद सभी लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। ये लोग अवैध रूप से देश छोड़ने के फिराक में थे। श्रीलंकाई नौसेना ने जारी एक बयान में इसकी जानकारी दी है।

आर्थिक संकट के कारण देश छोड़कर जा रहे थे सभी

नौसेना की ओर से जारी एक बयान में बताया गया कि आज सुबह पूर्वी समुद्री क्षेत्र में नौसेना द्वारा चलाए गए एक तलाशी अभियान में 51 लोगों को ले जा रही एक बोट को जब्त किया गया। ये सभी लोग अवैध रूप से देश छोड़कर किसी अन्य देश में जाने की कोशिश कर रहे थे। इस कारण सभी को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

पहले भी कई लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी

इससे पहले शनिवार को श्रीलंका की नौसेना, तटरक्षक बल और पुलिस की एक साझा टीम ने पश्चिमी तट के जरिए अवैध रूप से ऑस्ट्रेलिया जाने की कोशिश कर रहे 24 लोगों को गिरफ्तार किया था। इसी प्रकार, 27 और 28 जून को भी 100 से अधिक अवैध प्रवासियों को गिरफ्तार किया गया था।

गौरतलब है कि श्रीलंका 1948 में ब्रिटिश शासन से आजादी मिलने के बाद मौजूदा समय में जबरदस्त आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। इन दिनों श्रीलंका में मंहगाई अपने चरम पर है। पेट्रोल-डीजल और अन्य खाने-पीने की चीजों के मंहगे होने से लोग सड़कों पर हैं। श्रीलंकाई सरकार मंहगाई पर निंयत्रण करने में नाकाम साबित हुई है। जिसे लेकर वहां के लोगों में नाराजगी देखने को मिल रही है। हालांकि भारत ने पड़ोसी देश होने के नाते श्रीलंका को मौजूदा संकट से निपटने के लिए साल 2022 में ही अब तक 3.5 अरब डॉलर की मदद दी है। 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here