‘हम सिर्फ अफसोस जता सकते हैं’, पेलोसी के मुद्दे पर चीन के साथ आया रूस, दिया बड़ा बयान


Nancy Pelosi Taiwan, Nancy Pelosi, Dmitry Peskov, China, Taiwan, Russia, USA- India TV Hindi News
Image Source : AP
Vladimir Putin, Joe Biden and Xi Jinping.

Highlights

  • रूस ने कहा कि अमेरिका के इस कदम से पूरे इलाके में तनाव भड़क सकता है।
  • पेलोसी की ताइवान यात्रा के मुद्दे पर रूस पूरी तरह चीन के साथ आ गया है।
  • चीन ने अमेरिका को धमकाया है कि पेलोसी की ताइवान यात्रा के गंभीर नतीजे होंगे।

Nancy Pelosi Taiwan: अमेरिका की प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के मुद्दे पर रूस ने चीन का जोरदार समर्थन किया है। रूस ने मंगलवार कहा है कि नैंसी पेलोसी की यात्रा के जरिए अमेरिका चीन को उकसाने की कोशिश कर रहा है और ऐसे में पूरे इलाके में तनाव बढ़ सकता है। रूस के राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन ने एक बयान में कहा कि इससे तनाव खतरनाक स्थिति तक पहुंच सकता है। बता दें कि पेलोसी सिंगापुर और मलेशिया की यात्रा के बाद मंगलवार को ताइवान पहुंची जहां वह रात को भी रुकेंगी। 

‘अमेरिका के कदम से तनाव बहुत बढ़ सकता है’

क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने अमेरिका को चेतावनी दी कि इस तरह के दौरे ‘बहुत ही उकसावे’ वाले हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि ‘यह इलाके में स्थिति खराब कर सकते हैं और तनाव बढ़ा सकते हैं।’ पेस्कोव ने दोहराया कि रूस इस मुद्दे पर चीन के साथ है क्योंकि ताइवान का मुद्दा उसके लिए बहुत ही संवेदनशील है। पेस्कोव ने कहा, ‘इस मुद्दे को सम्मान और संवेदनशीलता के साथ निपटने के बजाय अफसोसजनक रूप से अमेरिका ने संघर्ष का रास्ता चुना। इससे कुछ बढ़िया नहीं होने वाला। हम सिर्फ अफसोस जता सकते हैं।’

ताइवान पहुंचने वाली सबसे बड़ी अधिकारी हैं पेलोसी
मंगलवार की रात ताइवान पहुंचने के साथ ही पेलोसी इस देश की यात्रा करने वाली सबसे बड़ी अमेरिकी अधिकारी बन गई हैं। पेलोसी से पहले उनके या उनसे ऊपर के स्तर के किसी भी अधिकारी ने कभी भी ताइवान की यात्रा नहीं की थी। पेलोसी की यात्रा से चीन और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ गया है। चीन दावा करता रहा है कि ताइवान उसका हिस्सा है और विदेशी अधिकारियों के ताइवान दौरे का विरोध करता है क्योंकि उसे लगता है कि यह द्वीपीय देश को एक संप्रभु राष्ट्र के तौर पर मान्यता देने के जैसा है।

चीन में पुल को पार करता दिखा सैनिकों का काफिला
चीन ने अमेरिका से पहले ही कहा था कि अगर पेलोसी ताइवान की यात्रा करती हैं तो इसके गंभीर नतीजे भुगतने होंगे। पेलोसी के ताइवान पहुंचने से कुछ पहले कई ऐसे वीडियो सामने आए जिनमें चीनी सेना की मूवमेंट नजर आ रही है। हालांकि इस एक मुद्दे को लेकर चीन और अमेरिका में जंग की संभावना बहुत कम है, लेकिन इतना तय है कि इससे दोनों देशों के बीच तनाव में बहुत ज्यादा इजाफा होगा।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here