75 साल बाद पाकिस्तान में पुश्तैनी घर देखने पहुंचीं 90 साल की भारतीय महिला, जानें पूरा मामला


Reena Chibber Verma - India TV Hindi News
Image Source : FACEBOOK/@REENA.VARMA.146
Reena Chibber Verma

Highlights

  • 90 साल की उम्र में रीना छिब्बर वर्मा के उत्साह को सलाम कर रहे देशवासी
  • वीजा दिलाने के लिए पाकिस्तान की विदेश राज्य मंत्री हिना रब्बानी खार ने मदद की
  • पाकिस्तान में अपने स्कूल की यादें ताजा करेंगी रीना, पुराने दोस्तों से भी मिलेंगी

Pakistan News:  90 साल की उम्र में इंसान चलने-फिरने की कोशिशें कम कर देता है और ज्यादा से ज्यादा समय आराम करने में बिताता है। ऐसा करना गलत भी नहीं है क्योंकि इस उम्र तक शरीर काफी कमजोर हो चुका होता है। लेकिन कुछ लोग इस दुनिया में हमेशा अपवाद होते हैं। कुछ ऐसा ही अपवाद 90 साल की महिला रीना छिब्बर वर्मा (Reena Chibber Verma) हैं, जो भारत से पाकिस्तान केवल अपना पुश्तैनी मकान देखने के लिए गई हैं। रीना पूरे 75 साल बाद पाकिस्तान में अपने घर की यादों को फिर से ताजा करने के लिए गई हैं और उनके इस सपने को पूरा करने के लिए पाकिस्तान की विदेश राज्य मंत्री हिना रब्बानी खार ने मदद की है।

90 साल की रीना विभाजन के समय पाकिस्तान छोड़कर भारत आ गई थीं। लेकिन रावलपिंडी में उनका पुश्तैनी मकान है। उसी को देखने का सपना 75 साल बाद पूरा हुआ है। पाकिस्तान ने भारतीय नागरिक रीना वर्मा (Reena Chibber Verma) को वीजा दे दिया और वह वाघा-अटारी सीमा के जरिए शनिवार को पाकिस्तान पहुंच गईं। 

रावलपिंडी में अपने पुश्तैनी घर जाएंगी रीना, दोस्तों से भी करेंगी मुलाकात

पाकिस्तान पहुंचने के तुरंत बाद नम आंखों से रीना वर्मा (Reena Chibber Verma) अपने गृह नगर रावलपिंडी रवाना हो गईं, जहां वह अपने पुश्तैनी मकान प्रेम निवास और अपने स्कूल जाएंगी। इस दौरान वह अपने बचपन के दोस्तों से भी मिलेंगी। रीना वर्मा भारत के महाराष्ट्र राज्य के पुणे शहर में रहती हैं। वह पुराने दिनों को यादकर बताती हैं कि वह मॉडर्न स्कूल में पढ़ती थीं और उनके 4 भाई-बहन भी उसी में पढ़ते थे। मेरे पिता मॉडर्न ख्यालों के थे और वह अपने बच्चों को समानता की बात सिखाते थे। हमारे मुस्लिम दोस्त थे और हम एक-दूसरे के घर जाया करते थे।

विभाजन से पहले हिंदू-मुस्लिम मुद्दा नहीं था: रीना

रीना (Reena Chibber Verma) का मानना है कि विभाजन से पहले हिंदू और मुसलमानों के बीच कोई ऐसा मुद्दा नहीं था, जिससे तनाव हो। यह सब तो विभाजन के बाद हुआ। हालांकि भारत का विभाजन गलत था लेकिन जब ये हो गया है तो दोनों देशों को हम सभी के लिए वीजा पाबंदियों में ढील देने की दिशा में काम करना चाहिए। बता दें कि रीना वर्मा 1947 में विभाजन के दौरान 15 साल की उम्र में भारत आई थीं।

पाक विदेश राज्यमंत्री हिना रब्बानी खार ने की मदद 

90 साल की बुजुर्ग रीना ने पाकिस्तानी वीजा के लिए आवेदन किया था, जिसे ठुकरा दिया गया था। इसके बाद उन्होंने पाक विदेश राज्यमंत्री हिना रब्बानी खार को सोशल मीडिया पर टैग करते हुए पाकिस्तान जाने की इच्छा बताई। इसके बाद हिना ने उनके लिए वीजा की व्यवस्था की। 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here