FBI का बड़ा खुलासा, डोनाल्ड ट्रंप घर से मिले कई कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट


Donald Trump- India TV Hindi News
Image Source : FILE PHOTO
Donald Trump

Highlights

  • ट्रंप के पास से मिले कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट
  • बक्सों के भीतर 184 डॉक्यूमेंट मिले, जिन पर कांफिडेंशियल लिखा था
  • कुछ कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट्स को अन्य कागजात के साथ मिलाकर रखा गया था

America: अमेरिका के जस्टिस मिनिस्ट्री ने शुक्रवार को फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) के उस हलफनामे का खुलासा किया, जिसमें देश के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मार-आ-लागो स्थित आवास की तलाशी को उचित ठहराया गया है। सार्वजनिक किये गए इस डॉक्यूमेंट में बहुत से संशोधन किये गए हैं और कई पन्नों पर काले निशान लगाए गए हैं। इसमें पूर्व राष्ट्रपति के फ्लोरिडा स्थित आवास पर कांफिडेंशियल रखी गई बेहद संवेदनशील जानकारियां हैं। 

ट्रंप के पास से मिले कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट

डॉक्यूमेंट से मुख्य रूप से निम्न बातें पता चली हैं: ट्रंप के पास बहुत से कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट थे। ट्रंप के शीतकालीन आवास की एफबीआई द्वारा 8 अगस्त को ली गई तलाशी में मिले कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट के 11 सेट बारे में इस हलफनामे से कोई नई जानकारी नहीं मिली है, लेकिन इतना पता चलता है कि जस्टिस मिनिस्ट्री के लिए इन डॉक्यूमेंट्स को प्राप्त करना महत्वपूर्ण क्यों था। 

15 बक्सों में 14 कांफिडेंशियल

हलफनामे से खुलासा हुआ है कि जनवरी में ट्रंप के आवास से मिले 15 बक्सों में 14 पर कांफिडेंशियल लिखा था। इन बक्सों के भीतर 184 डॉक्यूमेंट मिले, जिन पर कांफिडेंशियल लिखा था। इनमें से 67 पर ‘कॉन्फिडेंशियल’, 92 पर ‘सीक्रेट’ और 25 पर ‘टॉप सीक्रेट’ लिखा था। इनमें उच्च स्तरीय खुफिया जानकारी वाले डॉक्यूमेंट शामिल हैं। जिन एजेंट ने बक्सों का निरीक्षण किया, उन्होंने पाया कि डॉक्यूमेंट्स पर विशेष रूप से लिखा था कि वह सूचना बेहद संवेदनशील ह्यूमन सोर्स या इलेक्ट्रॉनिक सोर्स से प्राप्त की गई थी।

कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट्स को अन्य कागजात के साथ रखा गया

हलफनामे में कई डॉक्यूमेंट ऐसे पाए गए हैं जिन पर ‘ऑरिजिनेटर कंट्रोल्ड’ लिखा था। इसका अर्थ है कि जिन खुफिया एजेंसी के अधिकारियों ने रिपोर्ट बनाई थी, वे नहीं चाहते थे कि उनकी अनुमति के बिना अन्य एजेंसियों को वे डॉक्यूमेंट दिए जाएं। ‘सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी’ के एक पूर्व अधिकारी डगलस लंदन ने कहा, ‘‘चीजें जब इस स्तर तक कॉन्फिडेंशियल रखी जाती हैं तो इसका मतलब होता है कि जो लोग इन्फार्मेशन इकट्ठा कर रहे हैं उनकी जान को खतरा हो सकता है।’’ ट्रंप द्वारा इन डॉक्यूमेंट्स को रखने से हुई संभावित क्षति की समीक्षा के लिए अमेरिकी संसद द्वारा राष्ट्रीय खुफिया कार्यालय निदेशक से किये गए संपर्क का अभी तक जवाब नहीं मिला है। कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट्स को अन्य कागजात के साथ मिलाकर रखा गया था।

हलफनामे में कहा गया कि कुछ कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट्स को अन्य कागजात के साथ मिलाकर रखा गया था। नेशनल आर्काइव्स के व्हाइट हाउस डिवीजन के निदेशक के अनुसार, बक्सों में अखबार, पत्रिकाएं, प्रकाशित समाचार आलेख, तस्वीरें, व्यक्तिगत दस्तावेज और अन्य चीजें पाई गईं। सबसे बड़ी बात यह कि हाईली कांफिडेंशियल डॉक्यूमेंट्स को खुला और अन्य कागजात के साथ मिलाकर रखा गया था। सीआईए के पूर्व अधिकारी डेविड प्राइस ने कहा कि राष्ट्रपति को खुफिया सूचनाएं दी जाती हैं लेकिन उसे इस तरह अन्य चीजों के साथ बेतरतीब ढंग से मिलाकर रखना असामान्य बात है।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here