Israel Politics: इजराइल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री येर लैपिड ने की मंत्रिमंडल की पहली बैठक


Yair Lapid- India TV Hindi

Yair Lapid

Highlights

  • लैपिड ने मंत्रिमंडल की पहली बैठक की
  • इज़राइल के 14वें प्रधानमंत्री हैं लैपिड
  • पहले न्यूज़ एंकर थे येर लैपिड

Israel Politics: इजराइल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री येर लैपिड ने पदभार संभालने के बाद रविवार को मंत्रिमंडल की पहली बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में देश में जारी राजनीतिक अस्थिरता के बावजूद एक काम करने वाली सरकार का आश्वासन दिया। गौरतलब है कि इजराइल में राजनीतिक अस्थिरता के चलते चार साल में पांचवीं बार चुनाव होने जा रहे हैं। बैठक में लैपिड, पूर्व प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट के नजदीक बैठे थे। उन्होंने चेतावनी दी कि इजराइल अपनी रक्षा के लिए कोई भी कदम उठा सकता है। लैपिड के इस बयान से पहले इजराइल ने लेबनान के आतंकी संगठन हिज्बुल्ला के तीन प्रिडेटर विमानों को मार गिराया। 

इजराइल के 14वें प्रधानमंत्री बने

लैपिड ने पिछले साल हुए समझौते से बनी गठबंधन सरकार के तहत गत सप्ताह प्रधानमंत्री का पदभार संभाला था। पहले बेनेट ने सरकार की अगुवाई की लेकिन कई सांसदों के साथ छोड़ने और अन्य कारणों से उन्हें पद से हटना पड़ा। इससे संसद खुद ही भंग हो गई जिससे नए चुनाव की जरूरत पड़ी और लैपिड को सत्ता सौंप दी गई। इजराइल में एक नवंबर को फिर से चुनाव होंगे। लैपिड ने कहा कि आगामी महीनों में हमारा लक्ष्य इस प्रकार सरकार चलाना होगा कि वह चुनाव प्रचार ना लगे। इजराइल के नागरिक एक काम करने वाली सरकार के हकदार हैं।

कौन हैं येर लैपिड

येर लैपिड का जन्म 5 नवंबर 1963 में हुआ था। वह एक इजरायली राजनेता और पूर्व पत्रकार हैं। वे 1 जुलाई 2022 को इजरायल के 14 वें प्रधानमंत्री के रूप चुने गए। इससे पहले उन्होंने वैकल्पिक प्रधान के रूप में कार्य किया। 2021 से 2022 तक इज़राइल के मंत्री और विदेश मामलों के मंत्री भी रहें। लैपिड मध्यमार्गी यश अतीद के अध्यक्ष के रूप में भी कार्य करते हैं, जिन्होंने पहले 2020 से 2021 तक विपक्ष के नेता के रूप में और 2013 से 2014 तक वित्त मंत्री के रूप में कार्य किया था।

न्यूज एंकर हुआ करते थे लैपिड

2012 में राजनीति में आने से पहले, लैपिड एक लेखक, टीवी प्रजेन्टर और न्यूज़ एंकर थे। 1988 में मात्र 25 साल की उम्र में, लैपिड को येदिओथ तेल अवीव का संपादक नियुक्त किया गया। जो येदिओथ अह्रोनोथ समूह द्वारा प्रकाशित एक स्थानीय समाचार पत्र था। 1991 में, उन्होंने एक राष्ट्रव्यापी समाचार पत्र के सप्ताहांत के पूरक में एक साप्ताहिक कॉलम लिखना शुरू किया – पहले मारीव के लिए, और बाद में इसके प्रतियोगी, येडिओथ अह्रोनोथ के लिए लिखा। उनके कॉलम का नाम, “व्हेयर इज द मनी?”, दशकों बाद उनका राजनीतिक नारा बन गया।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here