Kosovo Serbia Conflict: रूस और यूक्रेन के बाद अब दुनिया के इन 2 देशों के बीच होगा भीषण युद्ध! तनाव के बीच NATO भी एंट्री के लिए तैयार


Kosovo Serbia Conflict- India TV Hindi News
Image Source : PTI
Kosovo Serbia Conflict

Highlights

  • कोसोवो और सर्बिया के बीच हो सकता है युद्ध
  • कोसोवो के नए नियमों को लेकर तनाव शुरू
  • सर्बिया के राष्ट्रपति ने जंग करने के संकेत दिए

Kosovo Serbia Conflict: अभी रूस और यूक्रेन के बीच जंग थमी भी नहीं है लेकिन यूरोप में फिर तनाव बढ़ रहा है। ऐसा माना जा रहा है कि दुनिया के दो और देश जंग की आग में एक दूसरे को झोंक सकते हैं। कोसोवो पुलिस ने रविवार को सर्बिया से लगने वाली अपनी सीमा को बंद कर दिया है। ये कदम तब उठाया गया, जब प्रदर्शनकारियों ने सड़कों को रोक दिया था और गोलीबारी की थी। इस बीच कोसोवो में जारी तनावपूर्ण स्थिति पर नाटो के नेतृत्व वाले मिशन ने घोषणा की है कि वह हस्तक्षेप करने के लिए तैयार है। वहीं कोसोवो ने तनाव को देखते हुए नए सीमा नियमों को लागू करने की अपनी योजना को टाल दिया है। कोसोवा में पुलिस ने कहा कि उसने बेरंजाक और जरींजे बॉर्डर क्रॉसिंग को बंद कर दिया है।

पुलिस ने बताया कि सर्बियन प्रदर्शनकारियों ने गोलीबारी की और सड़कों को रोक दिया। पुलिस ने कहा कि सर्बियाई प्रदर्शनकारियों ने गोलियां चलाईं और सड़क को जाम कर दिया। प्रदर्शनकारी कोसोवो के नए सीमा नियमों से परेशान हैं, जिसके तहत सर्बियाई पहचान पत्र के साथ आने वाले सभी लोगों को देश में एक शॉर्ट-टर्म दस्तावेज ले जाने की आवश्यकता होगी है। ऐसा ही एक नियम सर्बिया ने कोसोवो से आने वाले लोगों के लिए बनाया है। 

कोसोवो ने अपनी योजना टाली

कोसोवो की सरकार ने यह भी आदेश दिया है कि सर्बियाई मूल के लोग, जिनके पास वाहन के लिए सर्बियाई पंजीकरण प्लेट है, उन्हें अगले दो महीनों के भीतर कोसोवो नंबर प्लेट लगवानी होगी। रविवार शाम को तनाव बढ़ने के बाद यूरोपीय संघ और अमेरिका के राजदूतों ने चर्चा की है। दूसरी ओर, अब कोसोवो ने घोषणा की है कि वह अपनी योजना को अभी एक महीने के लिए स्थगित कर रहा है। यह योजना अब 1 सितंबर से लागू की जाएगी।

सर्बिया के राष्ट्रपति ने युद्ध का संकेत दिया

कोसोवो के उत्तरी क्षेत्र में 50,000 सर्बियाई मूल के लोग रहते हैं और ये लोग सर्बियाई अधिकारी और प्रशासन द्वारा जारी नंबर प्लेट का ही इस्तेमाल करते हैं। इन लोगों का मानना है कि कोसोवो के पास नियम बनाने और उन्हें लागू करने का अधिकर नहीं है। वहीं सर्बिया के राष्ट्रपति ने घोषणा की है कि कोसोवो में सर्बिया मूल के लोगों और सर्बियाई लोगों के लिए इतनी मुश्किल स्थिति पहले कभी नहीं रही है। उन्होंने दावा किया कि इस पूरे मामले को भड़काया जा रहा है और अगर सर्बिया के लोगों पर हमला किया गया, तो हम ही जीतेंगे। राष्ट्रपति ने अपनी इन बातों से जंग होने का संकेत दिया है। 

कोसोवो ने सर्बिया के राष्ट्रपति पर लगाया आरोप

इस बीच कोसोवो के प्रधानमंत्री ने कहा है कि सर्बिया के राष्ट्रपति अशांति भड़काने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आने वाला वक्त काफी चुनौतीपूर्ण और खतरनाक है। यहां ये बात भी ध्यान देने योग्य है कि सर्बिया ने अभी तक कोसोवो की स्वतंत्रता को मान्यता नहीं दी है। कई सालों से इन दोनों देशों के बीच स्थिति इतनी चिंताजनक बनी हुई है। स्थिति को देखते हुए नाटो ने घोषणा की है कि वह हस्तक्षेप करने के लिए तैयार है। नाटो के 3770 सैनिक इस वक्त कोसोवो में मौजूद हैं। सर्बिया को रूस और चीन का समर्थक देश माना जाता है। वह तेजी से रूस के साथ अपनी दोस्ती बढ़ा रहा है। हाल में ही चीन ने अपना घातक एयर डिफेंस सिस्टम सर्बिया को बेचा है।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here