Modi & Rishi Sunak talk: पीएम मोदी ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री को फोन कर दी बधाई, फिर ऋषि सुनक ने ऐसे किया धन्यवाद


ऋषि सुनक (बाएं)- India TV Hindi News

Image Source : AP
ऋषि सुनक (बाएं)

Modi & Rishi Sunak talk: ब्रिटेन के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री ऋषि सुनक को पीएम मोदी ने फोन कर बधाई दी है। इसके बाद ऋषि सुनक ने बृहस्पतिवार को अपने भारतीय समकक्ष पीएम नरेन्द्र मोदी को उनकी नई भूमिका के लिए बधाई देने के वास्ते धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि वह इस बात से ‘‘उत्साहित’’ हैं कि दो महान लोकतांत्रिक देश क्या हासिल कर सकते हैं, क्योंकि हम अपने सुरक्षा, रक्षा एवं आर्थिक संबंधों को मजबूत बनाने में लगे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने बृहस्पतिवार को ब्रिटेन के अपने समकक्ष सुनक से फोन पर बात की और उन्हें कार्यभार संभालने पर बधाई दी। मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘आज ऋषि सुनक से बात कर बहुत खुशी हुई। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने पर मैंने उन्हें बधाई दी। हम अपनी व्यापक रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत करेंगे।

दोनों देशों के बीच सामरिक, आर्थिक और सुरक्षा साझेदारी पर दिया जोर


मोदी ने कहा कि एक व्यापक और संतुलित मुक्त व्यापार समझौते के शीघ्र समापन के महत्व पर भी वह और सुनक सहमत हुए। इसके बाद सुनक ने कहा, ‘‘मैं अपनी नई भूमिका शुरू करने के लिए बधाई देने के वास्ते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का धन्यवाद व्यक्त करता हूं। ब्रिटेन और भारत में बहुत कुछ है। मैं इस बात से उत्साहित हूं कि हमारे दो महान लोकतंत्र क्या हासिल कर सकते हैं क्योंकि हम आने वाले महीनों और वर्षों में अपनी सुरक्षा, रक्षा और आर्थिक साझेदारी को और मजबूत करेंगे।’’

210 वर्षों के इतिहास में ब्रिटेन के सबसे कम उम्र के पीएम बने हैं ऋषि

ब्रिटेन के पूर्व वित्त मंत्री सुनक हिंदू हैं और वह पिछले 210 साल में ब्रिटेन के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री हैं। उनकी उम्र अभी महज 42 वर्ष है। भारत और ब्रिटेन ने जनवरी में मुक्त व्यापार समझौते के लिए बातचीत शुरू की थी और दिवाली तक वार्ता समाप्त किये जाने का उद्देश्य था, लेकिन मुद्दों पर आम सहमति की कमी के कारण समय सीमा चूक गई। सुनक के प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास‘10 डाउनिंग स्ट्रीट’ में जाने के साथ भारत-ब्रिटेन मुक्त व्यापार सौदे को बहुत जरूरी गति मिलने की संभावना है। विशेषज्ञों के अनुसार, ब्रिटेन में राजनीतिक स्थिरता अब समझौते के लिए वार्ता को तेज करने में मदद करेगी, जो संभावित रूप से 2030 तक द्विपक्षीय व्यापार को दोगुना कर सकती है।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here