PM Modi Japan Visit: क्वाड समिट के लिए जापान पहुंचे पीएम, भारतीय समर्थकों ने गर्मजोशी से लगाए नारे


PM Modi Japan Visit- India TV Hindi
Image Source : ANI
PM Modi Japan Visit

PM Modi Japan Visit: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्वाड समिट में हिस्सा लेने के लिए जापान की राजधानी टोक्यो पहुंच गए हैं। यहां जापान में भारतीय प्रवासियों ने प्रधानमंत्री का नारेबाजी और गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। प्रधानमंत्री आज 23 मई से शुरू हो रहे अपने 2 दिवसीय दौरे के हिस्से के रूप में क्वाड लीडर्स समिट में भाग लेंगे। 

40 घंटे में 23 मीटिंग्स, 36 बड़े सीईओ से मुलाकात का प्रोग्राम

पीएम मोदी जापान के कारोबारियों से मुलाकात करेंगे। वे जापान के 36 बड़े सीईओ से मिलेगे। इस दौरान वे 40 घंटे में 23 मीटिंग्स लेंगे। 24 मई को क्वाड समिट में हिस्सा लेंगे। आस्ट्रेलिया में हाल के चुनाव में जीतकर आए नए प्रधानमंत्री भी इस क्वाड सम्मेलन का हिस्सा होंगे। पीएम मोदी के टोक्यो पहुंचने पर भारतीय समुदाय के लोगों ने गर्मजोशी से मुलाकात की।

पीएम की एक झलक पाने के लिए उमड़े भारतीय समर्थक

पीएम की एक झलक पाने के लिए भारतीय उमड़ पड़े। बच्चों के साथ पीएम मोदी ने खास मुलाकात की और उनसे बातें की। इस दौरान बच्चों द्वारा बनाए गए आकर्षक पोस्टर्स और पेंटिंग्स उन्होंने देखी और उन्हें सराहा। इस दौरान इन पेंटिंग्स पर आटोग्राफ भी दिए। 

जानिए क्या है क्वाड, क्या है इस समिट की अहमियत 

24 मई को जापान की राजधानी टोक्यो में क्वाड ग्रुप की बैठक हो रही है। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि यूक्रेन युद्ध के बाद भी अमेरिका की एशिया पॉलिसी प्राथमिक बनी हुई है और यही कारण है जो बाइडेन सरकार एक बार फिर क्वाड की ओर देख रहे हैं। क्वाड ग्रुप का कहना है कि वह स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र को बनाए रखने के लिए काम कर रहे हैं लेकिन एक्सपर्ट्स मानते हैं कि क्वाड देश चीन पर लगाम लगाने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि अब तक क्वाड ने आधिकारिक तौर पर चीन का उल्लेख नहीं किया है कि लेकिन एक्सपर्ट्स मानते हैं कि क्वाड का डिजायन बीजिंग से निपटने के लिए तैयार किया गया है।

कैसे बना क्वाड ग्रुप?

2004 में हिंद महासागर में भयंकर सुनामी आई। क्षेत्र के कई तटीय देश प्रभावित हुए। इसी विनाशकारी सुनामी के बाद राहत कार्य के लिए भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका एक साथ आए। इसी के बाद 2007 में जापान के तत्कालीन पीएम शिंजो अबे ने कथित तौर पर एक चतुर्भुज सुरक्षा संवाद की अपील की। इसी साल क्वाड देशों ने बंगाल की खाड़ी में नौसैनिक अभ्यास किया। 

चीन के नापाक मंसूबों से एकजुट हुए क्वाड के देश

रिपोर्ट्स के मुताबिक बाद के सालों में चीन को अलग-थलग करने की चिंता कम होने लगी क्योंकि चीन ऑस्ट्रेलिया पर दबाव बनाने लगा था। 2008 तक भारत और ऑस्ट्रेलिया चीन के विरोध में नहीं जाना चाहते थे। 2013 से परिस्थिति बदलनी शुरू हो गई। 2017 तक ऑस्ट्रलिया, जापान, अमेरिका और भारत के चीन से संबंध खराब होते चले गए। इसके बाद कोविड और भारत के साथ बॉर्डर विवाद चारों देशों को फिर से एक साथ लाए।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here