Russia-Ukraine War: रूस की नई रणनीति पर दुनिया की नजर, पश्चिमी नेता डरे, तुर्की के राष्ट्रपति ने पुतिन को मिलाया कॉल, जानें अबतक युद्ध में क्या-क्या हुआ ?


Russia-Ukraine War- India TV Hindi News

Image Source : AP
Russia-Ukraine War

Highlights

  • खेरसोन, जापोरिज्जिया, लुहान्स्क और दोनेत्स्क में मतदान हुआ था
  • राष्ट्र के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे
  • फिर से कोई बड़ी योजना बना रहे हैं

Russia-Ukraine War: तुर्की के राष्ट्रपति के एक बयान से आंदाजा लगाया जा रह है कि राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने अपने रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन को यूक्रेनी संकट को हल करने के लिए बातचीत में शामिल होने के लिए कहा है। एर्दोगन ने गुरुवार को एक फोन कॉल में पुतिन को बताया कि “अधिक सकारात्मक विकास का मार्ग प्रशस्त करने के लिए तनाव को कम करने के कदमों की आवश्यकता है। रूस से इस प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए विशेष रूप से यूक्रेन में कुछ क्षेत्रों के रूस में प्रवेश के मुद्दे पर कदम उठाने की उम्मीद है।”

तुर्की हर भूमिका निभाने के लिए तैयार 


समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, पुतिन से ‘बातचीत को एक और मौका देने’ के लिए कहते हुए, एर्दोगन ने कहा कि तुर्की इस प्रक्रिया में एक सुविधाजनक भूमिका निभाने के लिए तैयार है। तुर्की के राष्ट्रपति ने रूस-यूक्रेन कैदी विनिमय के सफल समापन और इस्तांबुल में हस्ताक्षरित समझौते के कामकाज पर भी संतोष व्यक्त किया, जिसने विश्व बाजारों में यूक्रेनी अनाज के निर्यात को फिर से शुरू किया। एर्दोगन ने कहा कि नवंबर में समाप्त होने वाले अनाज निर्यात तंत्र का विस्तार एक सामान्य हित है।

तुर्की के दोनों देशों से संबंध है बेहतर 

उन्होंने रूसी उर्वरकों और अनाज उत्पादों के निर्बाध निर्यात पर अंकारा के निरंतर काम का भी वादा किया। तुर्की, जिसके यूक्रेन और रूस दोनों के साथ अच्छे संबंध हैं, फरवरी में रूस-यूक्रेन संघर्ष के फैलने के बाद से दोनों देशों के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य कर रहा है। 22 जुलाई को यूक्रेन और रूस ने अलग से इस्तांबुल में तुर्की और संयुक्त राष्ट्र के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे, जिसमें यूक्रेनी बंदरगाहों से काला सागर के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय बाजारों में खाद्य और उर्वरक शिपमेंट को फिर से शुरू किया गया था

पुतिन अपनी गलतिंयों का कर रहे है समीक्षा 

पश्चिमी देशों के नेताओं ने आशंका जताया  है कि व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन को फिर से तबाह करने के लिए फिर से कोई बड़ी योजना बना रहे हैं। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटेन और अमेरिकी जासूसों के मुताबिक इस बात की ‘विश्वसनीय खुफिया’ सूचना है कि पुतिन एक ऐसे हमले की तैयारी कर रहे हैं, जो युद्ध का नक्शा बदलने में कारगार साबित होगा। जासूसों ने ये भी बताया कि पुतिन यूक्रेन पर हमले को लेकर अपनी गलतियों का आंकलन कर रहे हैं। 

अमेरिका ने अपने नागरिकों से किया आग्रह  

द मिरर की रिपोर्ट के अनुसार, मॉस्को में अमेरिकी दूतावास नागरिकों से रूस छोड़ने का आग्रह कर रहा है, इस डर के बीच कि नागरिकों को उसके युद्ध में शामिल किया जा सकता है। अमेरिकी दूतावास ने कहा है कि रूस अमेरिकी नागरिकों की दोहरी नागरिकता को मानने से इनकार कर सकता है। उन्हें काउंसलर सहायता देने से भी मना कर सकता है। यही नहीं, ऐसे लोगों के रूस छोड़ने पर भी पाबंदी लगाई जा सकती है। दूतावास ने यह भी चेतावनी दी कि फ्लाइटों से रुस छोड़कर जाना मुश्किल हो गया है, इसके अलावा सैनिकों द्वारा सीमाओं को बंद कर दिया गया है।

इन क्षेत्रों को किया कब्जा 

यूक्रेन के खेरसोन, जापोरिज्जिया, लुहान्स्क और दोनेत्स्क में मतदान हुआ था। यूक्रेन ने जनमत संग्रह को अवैध बताते हुए खारिज कर दिया है। इस बीच अधिकारियों ने बताया कि रूसी गोलाबारी में एक बच्चे सहित कम से कम आठ नागरिकों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। यूक्रेन के डीनिप्रो में हुए हमले के बाद 12 साल की एक बच्ची को मलबे से बाहर निकाला गया। दक्षिणी और पूर्वी यूक्रेन के चार क्षेत्रों में मास्को-स्थापित प्रशासन ने मंगलवार रात दावा किया कि जनमत संग्रह में ज़ापोरिज्जिया क्षेत्र में 93% , खेरसोन क्षेत्र में 87%, लुहान्स्क क्षेत्र में 98% और दोनेत्स्क में 99% लोगों ने विलय का समर्थन किया है।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here