World News: चीन और ताइवान के बीच बढ़ते तनाव को देख, जापान ने लिया बड़ा फैसला


japan's Fumio Kishida- India TV Hindi News
Image Source : TWITTER
japan’s Fumio Kishida

Highlights

  • मिनोरू किहारा जापान-ताइवान संबंधों को मजबूत करेंगे
  • ताइवान में 20 हजार से अधिक जापानी नागरिक रहते हैं
  • चीन और ताइवान के बीच बड़े पैमाने पर युद्ध छिड़ने की संभावना कम है

World News: ताइवान में एक ड्रोन के मार गिराए जाने के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है। इस बीच जापान ने घोषणा की है कि वह ताइवान से अपने नागरिकों को कभी भी निकालने की तैयारी कर सकता है। वरिष्ठ जापानी राजनेता मिनोरू किहारा ने कहा कि जापानी सांसदों और ताइवान की सरकार ने द्वीप पर संभावित चीनी आक्रमण की स्थिति में जापानी नागरिकों को निकालने के तरीके पर बातचीत शुरू करने पर सहमति जताई है। दोनों देशों की स्थिति को देखकर ऐसा लगा रहा है कि अगर हालात नहीं सुधरे तो चीन कभी भी ताइवान पर अटैक कर सकता है। हालाकि चीन और ताइवान के बीच बड़े पैमाने पर युद्ध छिड़ने की संभावना कम है। इसके बावजूद चीन की आक्रामक नीतियों ने पूरी दुनिया की होश उड़ा दिए हैं। 

जापान ताइवान से करेगा संर्पक 

क्योडो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, जापानी सांसद मिनोरू किहारा ने कहा कि ऐसे में जापान के लोकतांत्रिक ताइवान के साथ कोई राजनयिक संबंध नहीं हैं। ऐसे में जापान सरकार की जगह एक प्रतिनिधिमंडल कार्रवाई करेगा। सांसदों की यही टीम ताइवान की सरकार से सीधा संपर्क करने की प्रयास में लगी है। इस संवाद के लिए समझौता जापानी सांसदों की हाल की ताइवान यात्रा के दौरान हुआ था। अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी की ताइवान यात्रा के बाद जापानी सांसदों ने द्वीप का दौरा किया।

चीन और जापान के रिश्तों में है खटास 
मिनोरू किहारा जापान-ताइवान संबंधों को मजबूत करेंगे। ये एक क्रॉस पार्टी समूह के महासचिव हैं। उनके नेतृत्व में जापानी सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल ताइवान पहुंचा। चीन शुरू से ही ताइवान को अपना हिस्सा मानता है। इस द्वीप के किसी अन्य देश के साथ संबंधों का भी कड़ा विरोध करता है। जापान और चीन के बीच पहले से ही विवाद चल रहा है। ऐसे में संबंधों को और खराब होने से बचाने के लिए जापान ने ताइवान को आधिकारिक तौर पर मान्यता नहीं दी है। 

क्या जापान चीन-ताइवान के बीच में आएगा?
आपको बता दें कि ताइवान में 20 हजार से अधिक जापानी नागरिक रहते हैं। जापान आमतौर पर किसी दूसरे देश में आपात स्थिति में अपने नागरिकों को निकालने के लिए सेल्फ डिफेंस फोर्सेज के विमान भेजता है। फिलहाल ये क्लियर नहीं है कि युद्ध के दौरान जापानी सैन्य विमान ताइवान में उतर सकता है या नहीं, जिसे चीन अपने क्षेत्र के रूप में दावा करता है। हालांकि चीनी आक्रमण से पहले निकासी के लिए निजी विमानों और जहाजों का इस्तेमाल किया जा सकता था। ऐसे में जापान चाहता है कि हमले की स्थिति में जल्द से जल्द जापानी नागरिकों को निकालने के लिए ताइवान के साथ एक व्यापक योजना तैयार की जाए।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here