प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे के निजी आवास को किया गया था आग के हवाले, 3 लोग गिरफ्तार


Sri Lankan prime minister Ranil Wickremesinghes private residence( Representational Image)- India TV Hindi
Image Source : PTI
Sri Lankan prime minister Ranil Wickremesinghes private residence( Representational Image)

Highlights

  • हो सकती हैं और भी गिरफ्तारियां
  • कैम्ब्रिज प्लेस स्थित निजी आवास को लगाई थी आग
  • राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे 13 जुलाई को देंगे इस्तीफा

Sri Lanka Crisis: श्रीलंका (Sri Lanka)की पुलिस ने सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बीच प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे(Ranil Wickremesinghe) के निजी आवास को एक दिन पहले आग के हवाले करने को लेकर रविवार को 3 लोगों को गिरफ्तार किया। मीडिया में आई खबरों में इसकी जानकारी दी गई। देश में अभूतपूर्व आर्थिक संकट को लेकर आक्रोशित प्रदर्शनकारियों का एक समूह शनिवार को कैम्ब्रिज प्लेस स्थित विक्रमसिंघे के निजी आवास में घुस गया और इसे आग के हवाले कर दिया।

रविवार शाम तक अदालत में किया जाएगा पेश

वेबसाइट कोलंबो पेज की न्यूज में पुलिस प्रवक्ता एसएसपी निहाल तलदुआ के हवाले से बताया गया है कि गिरफ्तार किए गए लोगों में माउंट लवीनिया निवासी 19 वर्षीय एक व्यक्ति और गाले निवासी 24 और 28 साल के दो व्यक्ति शामिल हैं। उन्होंने आगे कहा कि और भी गिरफ्तारियां हो सकती हैं, क्योंकि पुलिस ने अपनी जांच का दायरा बढ़ा दिया है। एक और वेबसाइट लंका फर्स्ट की खबर के मुताबिक, तलदुआ ने कहा कि संदिग्धों को फिलहाल कोलपेट्टी पुलिस की हिरासत में रखा गया है और उन्हें रविवार शाम तक अदालत में पेश किया जाएगा।

बता दें, बीते दिन प्रदर्शनकारियों ने कार्यवाहक प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के निजी घर में आग लगा दी थी। सुरक्षाबलों की जवाबी कार्रवाई में 6 पत्रकारों समेत 64 लोग घायल हुए थे।

राष्ट्रपति भवन छोड़कर भाग गए गोटाबाया राजपक्षे

इससे पहले शनिवार दोपहर आंदोलनकारियों ने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के सरकारी आवास पर कब्जा कर लिया था। राजपक्षे राष्ट्रपति भवन छोड़कर भाग गए थे। लेकिन रविवार को पता लगा है कि राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) किसी देश की सीमा में नहीं गए हैं। बल्कि वह समंदर के बीच में हैं और नेवी शिप से हालातों को मॉनीटर कर रहे हैं। वे 13 जुलाई को अपना इस्तीफा देंगे।  इस्तीफे से पहले PM ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई थी। राष्ट्रपति भवन पर जनता के कब्जे के बाद दबाव बढ़ा तो प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे ने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दी थी।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here