सेवेरोदोनेस्क शहर के 70% हिस्से पर रूस का कब्जा, पढ़ें यूक्रेन जंग के अपडेट्स


Russia-Ukraine War News: रूस-यूक्रेन युद्ध के 113वें दिन रूसी सेना को पूर्वी यूक्रेनी क्षेत्रों में बढ़त मिलती दिखाई दी. पश्चिमी देशों से आने वाली हथियारों की खेप को रूसी सैनिक बीच में ही नष्ट कर रहे हैं. इस कारण यूक्रेनी सेना के पास हथियारों की कमी आ रही है. उधर, यूक्रेनी शहर सेवेरोदोनेस्क को जाने वाले तीनों पुल नष्ट करने के चलते क्षेत्र में जीवन दूभर हो गया है. रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि सेवेरोदोनेस्क शहर के 70 फीसदी हिस्से पर अब रूसी नियंत्रण में हैं.

रूस की सेना यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में बहुत तेजी से आगे बढ़ रही है. रूसी सेना की बढ़त को देखते हुए यूरोपीय देशों पर भी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को रोकने का दबाव बढ़ गया है. रूसी सेना लिसिचांस्क की तरफ तेजी से बढ़ रही है जो यूक्रेन का संवेदनशील हिस्सा है. उधर, कुछ यूरोपीय नेताओं ने बातचीत का रास्ता अपनाने का सुझाव अपने वरिष्ठ पदाधिकारियों को दिया है.

इसके साथ ही जानें यूक्रेन जंग के 10 अपडेट्स…

यूक्रेन की सेना ने अपने देश के पूर्वी हिस्से में कंट्रोल करीब-करीब खो दिया है. सेवेरोडोनेट्स्क शहर तक यूक्रेनी सेना एक बड़े ब्रिज के जरिए पहुंचती रही थी. अब रूसी सेना ने उसका यह ब्रिज उड़ाकर रसद का रास्ता बंद कर दिया है.

यहां बड़ी तादाद में यूक्रेनी सैनिक मौजूद हैं, लेकिन उनके पास हथियारों और गोला बारूद की कमी होती जा रही है. हालांकि, यूक्रेन के दक्षिणी हिस्से और खासतौर पर खेरसॉन इलाके में रूसी सेना का तगड़ा नुकसान हुआ है.

सेवेरोडोनेट्स्क पर कब्जे को लेकर कई दिनों से जंग जारी है. रूस अगर इस हिस्से पर कब्जा कर लेता है तो पूर्वी यूक्रेन पर उसकी पकड़ मजबूत हो जाएगी. रूसी सेनाओं को इस इलाके तक पहुंचने में काफी नुकसान हुआ है.

कुछ दिन पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति वोल्दोमिर जेलेंस्की ने सेवेरोडोनेट्स्क के मृत शहर तक कह दिया था. रूसी सेना ने यहां भारी हथियारों का इस्तेमाल किया है. इसके अलावा जंग शहर की सड़कों तक पर लड़ी गई. हालांकि, रूसी सेना को भी यहां काफी नुकसान की आशंका है.

जिस खेरसॉन शहर पर रूस एक महीने पहले कब्जा कर चुका था, अब वहां यूक्रेन फौज फिर ग्रिप मजबूत कर रही है. न्यूयॉर्क टाइम्स ने यूक्रेनी अधिकारियों के हवाले से इसकी पुष्टि भी की है. हालांकि, अब भी यूक्रेन की फौज खेरसॉन से 18 किलोमीटर दूर है.

जेलेंस्की को उम्मीद है कि इस महीने के आखिर में होने वाली जी-7 देशों की मीटिंग में यूक्रेन को हथियारों की सप्लाई पर कोई बड़ा फैसला हो सकता है. पिछले दिनों फ्रांस, जर्मनी और इटली के विदेश मंत्रियों के बीच इस मसले पर वन-टु-वन मीटिंग भी हुई थी.

राजधानी कीव के बाहरी क्षेत्र में बुका शहर के पास जंगल से एक और सामूहिक कब्र मिली है। इसमें कई मृतकों के हाथ पीछे बंधे मिले हैं. इन कब्रों को खोदने का काम ऐसे वक्त में हो रहा है जब यूक्रेनी पुलिस प्रमुख ने कहा है कि प्राधिकारियों ने 24 फरवरी को रूसी हमले की शुरुआत के बाद से 12,000 से अधिक लोगों की हत्याओं की आपराधिक जांच शुरू की है.

रूस समर्थित अलगाववादियों ने दावा किया कि यूक्रेन के दोनेस्क क्षेत्र में यूक्रेनी सेना द्वारा किए गए हमले में पांच लोगों की मौत हो गई और 22 जख्मी हो गए.

यूक्रेन की ओर से एक हवाई हमला दोनेस्क स्थित प्रसूति अस्पताल पर हुआ जिसके बाद वहां आग लग गई. अफरातफरी मचने पर मरीजों को बेसमेंट में भेजा गया. कीव की तरफ से इस संबंध में कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

रूसी सेना के हमलों से बचकर की गई खेती से इस बार 4.85 करोड़ टन खाद्यान्न पैदा होने का अनुमान है. इसमें गेहूं की मात्रा दो करोड़ टन है, जबकि पिछले वर्ष शांति काल में देश में खाद्यान्न उपज 8.6 करोड़ टन हुई थी.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : June 15, 2022, 11:58 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here