NASA ने 27 साल में ऑस्ट्रेलिया से पहला रॉकेट किया लॉन्च, करीब के ग्रहों की मिलेगी जानकारी


केनबरा. अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA) ने 27 साल में पहली बार ऑस्ट्रेलिया की धरती से सोमवार को पहला रॉकेट लॉन्च किया. ‘द ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन’ के अनुसार बारिश और हवा के कारण लॉन्चिंग में तय समय की तुलना में कुछ देरी हुई. नॉदर्न टेरिटोरी में अर्नहेम स्पेस सेंटर से सबऑर्बिटल साउंडिंग रॉकेट ने सफलतापूर्वक उड़ान भरी. नासा का कहना है कि इससे खगोल भौतिकी का अध्ययन संभव हो सकेगा, जो पहले दक्षिणी गोलार्ध में ही पाता था.

वर्ष 1995 के बाद यह पहला मौका है जब अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने ऑस्ट्रेलिया से एक रॉकेट लॉन्च किया है और विदेशी धरती पर एक वाणिज्यिक लॉन्चपैड से इसका पहला प्रक्षेपण किया है. नासा ने कहा कि रॉकेट ने दक्षिणी गोलार्ध में केवल खगोल भौतिकी अध्ययन करने के लिए अंतरिक्ष में लगभग 300 किमी की यात्रा की. वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इससे उन्हें करीब के ग्रहों पर तारों की रोशनी के असर का अध्ययन करने में मदद मिलेगी.

धरती का तापमान बढ़ने से बौने होते जाएंगे इंसान, जरूर पढ़ें ये स्टडी

दूरदराज के इलाकों में जाने वालों को महज 10 सेकेंड के लिए एक जगमगाहट नजर आई. लोगों का कहना था कि उसके बाद यह रोशनी गड़गड़ाहट की आवाज के साथ वह ऊपर चला गया जैसे कुछ था ही नहीं.

अंतरिक्ष में इस साउंडिंग रॉकेट की अवधि भी काफी छोटी थी, 13 मीटर लबा यह प्रक्षेप्य 15 मिनट बाद वापस धरती पर गिर गया. लेकिन इस दौरान मिशन के एक्स-रे कैमरा की मदद से अल्फा सेंटोरी ए और बी के रहस्यों को उजागर करने में मदद मिलेगी. दरअसल अल्फा सेंटोरी धरती के नजदीगी डबल-स्टार सिस्टम हैं जो सिर्फ 4.3 प्रकाश वर्ष दूर हैं.

इस मौके उत्तरी क्षेत्र की मुख्यमंत्री नताशा फाइल्स ने लॉन्च को ऑस्ट्रेलिया के लिए बेहद गर्व का पल बताया और कहा कि यह सब इस क्षेत्र के आदिवासी पारंपरिक मालिकों के आशीर्वाद से संभव हो सका.

ऑस्ट्रेलिया ने हाल में अपने अंतरिक्ष प्रयासों में बढ़ोतरी की है. रूस और चीन की अंतरिक्ष में महत्वकांक्षाओं का सामना करने पर केंद्रित एक रक्षा एजेंसी का भी हाल ही में अनावरण किया है. अर्नहेम स्पेस सेंटर दुनिया का पहला कमर्शियल स्वामित्व वाला भूमध्यरेखीय प्रक्षेपण स्थल है.

हर सेकंड पृथ्वी के बराबर बढ़ रहा ब्लैक होल, सूर्य से 3 अरब गुना बड़ा है आकार

अब अगला लॉन्च 4 जुलाई को होने की उम्मीद है. इस बीच नासा ने सभी सामग्री और मलबा एकत्र करके वापस अमेरिका भेजने का फैसला लिया है.

Tags: China Space, Rocket, Space Exploration, Space Science



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here