NATO का दावा- कई साल तक चलेगा युद्ध, रूस ने कहा- जल्द मिलेगी बड़ी कामयाबी


Russia-Ukraine War News Update: यूक्रेन पर साढ़े तीन महीने से रूस के हमले जारी हैं. रूसी सैनिक यूक्रेन के लगभग सभी शहरों पर नए सिरे से अटैक कर रहे हैं. इस बीच अमेरिकी सहयोगी संगठन नाटो (NATO) ने दावा किया है कि युद्ध कई साल चल सकता है. यूक्रेन जल्द ही डोनबास को रूसी कब्जे से मुक्त करा लेगा. वहीं, रूस ने दावा किया है कि पूर्वी इलाके में विशेष सैन्य अभियान योजना के मुताबिक आगे बढ़ रहा है. जल्द ही बड़ी कामयाबी मिलेगी. पूरा डोनबास उसके नियंत्रण में होगा.

जर्मनी के अखबार बिल्ड अम जॉनटाग ने नाटो के महासचिव जेंस स्टोल्टनबर्ग के हवाले से बताया कि अमेरिका व यूरोपीय देशों से मिल रहे अत्याधुनिक हथियारों की वजह से यूक्रेनी सैनिकों के हमलों में धार आई है. जल्द ही वे पूर्वी मोर्चे पर दोनबास को रूसी कब्जे से मुक्त कराने में सक्षम हो जाएंगे. स्टोल्टनबर्ग ने कहा, पूरी दुनिया और खासतौर पर यूरोप को यह बात ध्यान में रखनी होगी कि यह युद्ध में कई साल तक चल सकता है. यूक्रेन को जिताना है तो न केवल सैन्य सहायता के लिए, बल्कि बढ़ती ऊर्जा और खाद्य कीमतों के मोर्चे पर भी मदद करनी होगी.

इसके साथ ही आइए जानते हैं रूस और यूक्रेन जंग के बड़े अपडेट्स…

यूक्रेनी सैनिकों ने रविवार को पूर्वी शहर सेवेरोडोनेट्स्क के पास के गांवों पर हुए रूसी हमलों का मुंहतोड़ जवाब दिया. यूक्रेनी सेना की ओर से जारी बयान के मुताबिक, आर्मी ने शकिवका इलाके में रूसी हमले को नाकाम कर दिया. इस वजह से रूसी सेना को पीछे हटना पड़ा और वे फिर से संगठित हो रहे हैं.

यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने रविवार को कहा- यूक्रेनी आर्मी देश के दक्षिणी हिस्से को रूस के कब्जे में नहीं जाने देगी. जेलेंस्की का यह बयान शनिवार को दक्षिणी शहर मायकोलाइव का दौरा करने के बाद आया. उन्होंने जंग की शुरुआत के बाद पहली बार देश के दक्षिणी शहर मायकोलाइव का दौरा किया था.

नाटो के महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने रविवार को बताया कि रूस- यूक्रेन युद्ध में कई साल लग सकते हैं. उन्होंने यह भी बताया कि यूक्रेनी सैनिकों को मॉडर्न हथियारों की सप्लाई से डोनबास इलाके को रूसी कब्जे से आजाद करने की संभावना बढ़ जाएगी.

स्टोलटेनबर्ग के बीते हफ्ते दिए बयान के मुताबिक, इस महीने के अंत में मैड्रिड में होने वाले नाटो समिट में यूक्रेन के लिए एक सहायता पैकेज पर सहमत होने की उम्मीद है. इस पैकेज से यूक्रेन को पुराने सोवियत जमाने के हथियार की बजाय नाटो स्टैंडर्ड के हथियार मिलेंगे.

न्यूज एजेंसी रायटर्स ने एक यूक्रेनी ऑफिशियल के हवाले से बताया है कि रूस, यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खार्किव को फ्रंटलाइन शहर बनाने की कोशिश कर रहा है. एजेंसी ने यह बात यूक्रेन के आंतरिक मंत्री के सलाहकार वादिम डेनिसेंको के हवाले से बताई है.

यह बयान इस हफ्ते एमनेस्टी इंटरनेशनल की ओर से रूस पर यूक्रेन में युद्ध अपराधों का आरोप लगाने के बाद आया है. इसमें रूस पर खार्किव में कई प्रतिबंधित क्लस्टर बमों के इस्तेमाल का आरोप लगाया गया, जिसमें सैकड़ों नागरिक मारे गए थे.

कीव गए ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा था कि ब्रिटेन समझता है कि यूक्रेन को लंबे समय तक समर्थन की जरूरत है. उन्होंने यूक्रेन के लोगों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि वे थकें नहीं, क्योंकि युद्ध अभी जारी है. ब्रिटेन यूक्रेन के सैनिकों प्रशिक्षण, हथियार, गोला-बारूद तेजी से देगा.

वॉशिंगटन स्थित एक थिंक टैंक इंस्टीट्यूट फॉर द स्टडी ऑफ वार के विश्लेषकों ने आशंका जाहिर की है कि रूसी सेना आने वाले दिनों में सेवेरस्कइ नदी के किनारे बसे सेवेरोदोनेस्क पर पूरा नियंत्रण हासिल कर लेगी. हालांकि, इसके लिए रूस को बहुत छोटे से क्षेत्र के पूरी ताकत झोंकनी पड़ेगी.

रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि सेवेरोदोनेस्क के दक्षिण-पूर्व में मितयोल्किन शहर पूरी तरह रूसी सेना के नियंत्रण में है. यूक्रेनी सेना ने भी रूस की इस कामयाबी की पुष्टि की है.

लुहांस्क के गवर्नर सेरही गैदाई ने सेवेरोदोनेस्क पर रूसी कब्जे के दावे को खारिज करते हुए कहा, यूक्रेनी बल लगातार रूस को जवाब दे रहे हैं. वहीं, सेवेरस्कइ के दूसरे छोर पर बसे लिसईचांस्क में रूस ने मिसाइल हमलों से भारी तबाही मचाई है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : June 20, 2022, 10:43 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here