चीन इस साल ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का करेगा आयोजन, एक ही मंच पर होंगे मोदी और जिनपिंग


China President Xi Jinping and PM Narendra Modi- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO
China President Xi Jinping and PM Narendra Modi

Highlights

  • चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की अध्यक्षता
  • बीजिंग में डिजिटल माध्यम से किया जाएगा आयोजित
  • चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग करेंगे अध्यक्षता

BRICS Summit: ब्रिक्स देशों का 14वां शिखर सम्मेलन 23 जून को बीजिंग में डिजिटल माध्यम से आयोजित किया जाएगा। चीनी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को यह घोषणा की। चीन इस साल ब्रिक्स का अध्यक्ष है। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की अध्यक्षता में आयोजित होने वाले शिखर सम्मेलन में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो और दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा के भी भाग लेने की उम्मीद है। 

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का क्या होगा एजेंडा

बता दें कि BRICS ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका का एक समूह है। चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने एक बयान में कहा कि शिखर सम्मेलन डिजिटल माध्यम से आयोजित किया जाएगा। शिखर सम्मेलन का विषय ‘‘उच्च गुणवत्ता वाली ब्रिक्स साझेदारी को बढ़ावा देना, वैश्विक विकास के लिए एक नए युग की शुरुआत’’ है। हुआ ने कहा कि साथ ही, ब्रिक्स देशों के नेता और ‘‘प्रासंगिक’’ उभरते बाजारों और विकासशील देशों के नेता 24 जून को बीजिंग में वैश्विक विकास पर उच्च स्तरीय वार्ता में भाग लेंगे, जिसकी मेजबानी शी करेंगे। 

NSA डोभाल ने ब्रिक्स के सुरक्षा अधिकारियों के साथ की बैठक

उन्होंने कहा कि ‘‘टिकाऊ विकास के लिए 2030 के एजेंडा को संयुक्त रूप से लागू करने को लेकर नए युग के निर्माण के लिए वैश्विक विकास साझेदारी को बढ़ावा’’ देने के विषय पर डिजिटल तरीके से वार्ता आयोजित की जाएगी। उन्होंने कहा कि शी 22 जून को डिजिटल तरीके से ब्रिक्स बिजनेस फोरम के उद्घाटन समारोह में भी हिस्सा लेंगे और मुख्य भाषण देंगे। शिखर सम्मेलन से पहले, चीन ने ब्रिक्स विदेश मंत्रियों की बैठक के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों (एनएसए) की बैठक सहित कई प्रारंभिक बैठकें कीं। भारत के एनएसए अजित डोभाल ने बुधवार को वीडियो लिंक के जरिए ब्रिक्स के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों की बैठक में हिस्सा लिया। डोभाल ने पांच देशों के समूह की एक डिजिटल बैठक को संबोधित करने के दौरान बिना किसी भेदभाव के आतंकवाद के खिलाफ सहयोग बढ़ाने का आह्वान किया।

एस जयशंकर ने भी की थी ब्रिक्स विदेश मंत्रियों के साथ मीटिंग

इससे पहले, भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने 19 मई को अपने चीनी समकक्ष वांग यी के साथ ब्रिक्स विदेश मंत्रियों की डिजिटल बैठक में भाग लिया था। चीन ने विदेश मंत्रियों के सम्मेलन के इतर कजाकिस्तान, सऊदी अरब, अर्जेंटीना, मिस्र, नाइजीरिया, सेनेगल, संयुक्त अरब अमीरात और थाईलैंड के विदेश मंत्रियों के साथ ‘ब्रिक्स प्लस’ की बैठक भी आयोजित की। ब्रिक्स के न्यू डेवलपमेंट बैंक ने पहले ही बांग्लादेश, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र और उरुग्वे को अपने सदस्यों के रूप में स्वीकार कर लिया है।

बाद में शुक्रवार को अपनी मीडिया ब्रीफिंग में, चीनी प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि ब्रिक्स देश, एक सहयोग तंत्र के रूप में, उभरते बाजारों और विकासशील देशों के साथ-साथ दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए एक महत्वपूर्ण मंच हैं। उन्होंने कहा, ‘‘इस बैठक में, हम उम्मीद करते हैं कि हम रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत बना सकते हैं, विकास के लिए एक बड़ा खाका तैयार कर सकते हैं और विकास में अधिक योगदान दे सकते हैं।’’





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here