जंग की तरफ बढ़ रहे अमेरिका और चीन? समुद्र के किनारे नजर आए चीनी सेना के टैंक


Nancy Pelosi Taiwan, Nancy Pelosi, Dmitry Peskov, China, Taiwan, Russia, USA- India TV Hindi News
Image Source : AP
Speaker of the United States House of Representatives Nancy Pelosi.

Highlights

  • ताइवान को चीन अपना हिस्सा मानता है।
  • चीन ने अमेरिका को ‘गंभीर नतीजे’ भुगतने की धमकी दी है।
  • अमेरिका ने पेलोसी पर चीन के बयान की निंदा की है।

Nancy Pelosi Taiwan: अमेरिका ने प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी (Nancy Pelosi) की ताइवान यात्रा (Taiwan visit) को लेकर चीन और अमेरिका में बुरी तरह ठन गई है। बताया जा रहा है कि पेलोसी मलेशिया की यात्रा करने के बाद ताइवान पहुंचेंगी और रात भी वहीं बिताएंगी। चीन ने पेलोसी की ताइवान यात्रा पर भड़कते हुए अमेरिका को ‘गंभीर नतीजे’ भुगतने की धमकी दी है जबकि अमेरिका की तरफ से वैसा पलटवार देखने को नहीं मिला है। इस बीच चीन की सेना का काफिला ताइवान से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर एक पुल पर देखा गया है, और पीएलए के टैंक समुद्र किनारे पहुंच चुके हैं।

‘यात्रा करने या न करने का अंतिम फैसला पेलोसी का’

व्हाइट हाउस की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने सोमवार को जोर देकर कहा कि ताइवान की यात्रा करने या न करने का अंतिम फैसला पेलोसी का ही है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी सांसद पिछले कई सालों से लगातार ताइवान आते जाते रहे हैं। किर्बी ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों को चिंता है कि बीजिंग इस यात्रा को बहाना बनाकर ताइवान स्ट्रेट या ताइवान के आस-पास सैन्य कदम उठाने, ताइवान के हवाई क्षेत्र में उड़ान भरने और स्ट्रेट में बड़े पैमाने पर नेवल एक्सरसाइज करने समेत उकसाने की कार्रवाई कर सकता है।

‘हम नैंसी पेलोसी की यात्रा पर करीबी नजर रख रहे हैं’
चीन ने कहा है कि वह पेलोसी की ताइवान की यात्रा करने की योजना से जुड़ी खबरों पर करीबी नजर रख रहा है। उसने साथ ही अमेरिका को आगाह भी किया कि अगर पेलोसी ताइवान की यात्रा करती हैं तो उसकी सेना ‘कड़ा जवाब’ देगी और इसके ‘गंभीर नतीजे’ भुगतने पड़ेंगे। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, ताइवान की सीमा से सिर्फ 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक पुल पर से चीनी सेना के काफिले को गुजरते हुए देखा गया है। वहीं, समुद्र के पास भी चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के टैंक नजर आए हैं।

मलेशिया के प्रधानमंत्री इस्माइल साबरी से मिलीं पेलोसी
नैंसी पेलोसी ने मंगलवार को मलेशिया के प्रधानमंत्री इस्माइल साबरी और विदेश मंत्री सैफुद्दीन अब्दुल्ला से मुलाकात की। पेलोसी ने इस मुलाकात की फोटो ट्वीट कर कहा, ‘हमने क्षेत्र में सुरक्षा और स्थिरता को आगे बढ़ाने, आर्थिक संबंधों को मजबूत करने और जलवायु संकट को दूर करने समेत साझा प्राथमिकताओं पर चर्चा की।’ मलेशिया के बाद पेलोसी ताइवान पहुंचने वाली हैं और रात भी वहीं बिताएंगी, हालांकि इसे लेकर कोई आधिकारिक ऐलान नहीं किया गया है। पेलोसी के ताइवान पहुंचने के बाद चीन का रुख क्या होगा, यह देखने वाली बात है।

चीन और अमेरिका में जंग करवाएगी पेलोसी की यात्रा!
चीन इस मसले पर कड़ा रुख अख्तियार किए हुए है और अमेरिका को लगातार धमकी दे रहा है। हालांकि इस मुद्दे को लेकर दोनों देशों के बीच जंग होगी, इसकी संभावना कम ही है। दरअसल, ताइवान को चीन अपना हिस्सा मानता है और किसी भी देश की ऐसी किसी भी कोशिश का विरोध करता है जिससे ताइवान को एक संप्रभु राष्ट्र के तौर पर देखा जाए। ऐसे में यह तो तय है कि पेलोसी की ताइवान यात्रा दोनों देशों के बीच बहुत ही ज्यादा कड़वाहट पैदा करेगी, लेकिन यह तल्खी जंग के रूप में सामने आएगी, इसकी संभावना बहुत कम है।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here