ताइवान को घेरने के लिए चीन ने चली नई चाल, करेगा ‘लाइव फायर एक्सरसाइज’


Xi Jinping- India TV Hindi News
Image Source : PTI (FILE IMAGE)
Xi Jinping

Highlights

  • ताइवान को घेरने के लिए चीन ने चली नई चाल
  • करेगा ‘लाइव फायर एक्सरसाइज’
  • ताइवान भी जवाब के लिए तैयार

China News: चीन ने घोषणा की है कि वह ताइवान के नजदीक अपने समुद्र तट पर शनिवार को सैन्य अभ्यास कर रहा है। चीन ने यह घोषणा अमेरिकी कांग्रेस (संसद) के निम्न सदन हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी को उनकी संभावित ताइवान यात्रा रद्द करने की चेतावनी देने के बाद की है। चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है। एक अधिकारी ने सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ को बताया कि सत्तारूढ़ कम्युनिष्ट पार्टी की सैन्य इकाई पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) फुजियान सूबे में पिंगटन द्वीप के करीब सुबह आठ बजे से रात नौ बजे तक ‘लाइव फायर एक्सरसाइज’ कर रही है।

जहाजों को इलाके में जाने से बचने की चेतावनी दी है

इस तरह के युद्धाभ्यास में आमतौर पर तोपों का इस्तेमाल होता है। हालांकि, चीन ने यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या शनिवार के अभ्यास में मिसाइलों, लड़ाकू विमानों और अन्य हथियारों का इस्तेमाल हो सकता है। चीनी अधिकारी ने बताया कि समुद्री सुरक्षा प्रशासन ने जहाजों को इलाके में जाने से बचने की चेतावनी दी है। पेलोसी अगर ताइवान की यात्रा करती हैं तो यह 1997 के बाद किसी शीर्ष अमेरिकी निर्वाचित प्रतिनिधि की इस द्वीपीय देश की पहली यात्रा होगी।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने गुरुवार को अपने अमेरिकी समकक्ष जो बाइडन से फोन पर हुई बातचीत में कहा कि चीन के ताइवान से निपटने के मामले में वह किसी ‘विदेशी हस्तक्षेप’ बर्दाश्त नहीं करेगा। चीन ने कहा कि ताइवान को विदेश संबंध स्थापित करने का कोई अधिकार नहीं है। उसने कहा कि वह अमेरिकी नेता की यात्रा को दशकों से ताइवान की लगभग स्वतंत्र रही स्थिति को आधिकारिक बनाने के लिए प्रोत्साहन देने के कदम के तौर पर देखता है।

ताइवान भी तैयार

रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध के बाद से इस बात की आशंका और तेज हो गई है कि चीन ताइवान पर कभी भी हमला कर सकता है। चीनी सेना ने भी बीते साल से ताइवान के खिलाफ अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं। जिसके बाद से दोनों देशों के रिश्ते और बिगड़ रहे हैं। वक्त-वक्त पर अमेरिकी अधिकारियों के ताइवान दौरे पर भी चीन अपनी नाराजगी जाहिर करता रहा है। ऐसी भी रिपोर्ट्स आईं, जिनमें चीन ने कहा कि वह सैन्य बल के जरिए भी ताइवान को मुख्य चीनी भूमि में मिला लेगा। यही वजह है कि ताइवान ने अपनी रक्षा करने के लिए अभी से तैयारी करना शुरू कर दिया है। इसके लिए बकायदा लोगों को ट्रेनिंग दी जा रही है।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here