यूक्रेन को 1 अरब डॉलर और देंगे बाइडन, पढ़ें जंग के 10 बड़े अपडेट्स


Russia-Ukraine War News: रूस-यूक्रेन युद्ध का आज 112वां दिन है. रूसी सेना ने पूर्वी यूक्रेन के बड़े हिस्से पर कब्जा करने का दावा करते हुए यूक्रेनी फौज को हथियार डालने के लिए कहा है. रूस ने कहा कि सेवेरोडोनेट्स्क में यूक्रेन के पास कुछ नहीं बचा है, उसे हथियार डालना ही होगा. लुहांस्क के गवर्नर ने कहा, यहां रूस को रोकना मुश्किल है, जबकि कीव ने नाटो देशों से एंटी मिसाइल सिस्टम मांगी हैं.

इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने यूक्रेन को 1 अरब डॉलर और देने का ऐलान कर दिया है. दूसरी तरफ, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोल्दोमिर जेलेंस्की ने कहा है कि उनके देश को यूरोप और नाटो से जो मदद मिल रही है, उसके लिए वो शुक्रगुजार हैं.

आइए जानते हैं रूस और यूक्रेन जंग के बड़े अपडेट्स…

लुहांस्क के गवर्नर ने भी कहा है कि मॉस्को की सेना ने शहर को तोपखाने से घेरना जारी रखा है और रूस ने सेवेरोदोनेस्क के केमिकल प्लांट में शरण लिए यूक्रेनी लड़ाकों को आत्मसमर्पण के लिए कहा है.

व्हाइट हाउस ने कहा है कि वो यूक्रेन के हालात पर पैनी नजर बनाए हुए है और उसे किसी भी सूरत में अकेला नहीं छोड़ा जाएगा. उधर, बाइडन ने कहा- जो बहादुरी यूक्रेन की फौज और वहां के लोग दिखा रहे हैं, वो हम सभी के लिए मिसाल है.

अमेरिका ने ये भी साफ कर दिया है कि 2.25 करोड़ डॉलर की दवाइयां, पानी, फूड और वॉटरप्रूफ टैंट यूक्रेन को बहुत जल्द भेजे जा रहे हैं. यह तैयारी आने वाली सर्दियों को देखते हुए की जा रही है.

यूक्रेन की फौज देश के दक्षिणी हिस्से में तेजी से आगे बढ़ रही है. राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा है कि नाटो को हथियार सप्लाई की रफ्तार तेज करना चाहिए.

यूक्रेन के पूर्वी शहर सेवेरोडोनेट्स्क में रूसी सेना बहुत तेजी से आगे बढ़ रही है. इसी से लगा हुआ बेहद अहम शहर लिसिचांस्क भी है. ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रूसी सेना इन दोनों शहरों पर कब्जा करने के बहुत करीब है. इसलिए यहां शहरी इलाकों में भी जबरदस्त हमले किए जा रहे हैं.

अब आम लोगों ने सेवेरोडोनेट्स्क के उस केमिकल प्लांट में पनाह ली है, जिसे एक वक्त रूस ने ही तैयार किया था. ब्रिटिश इंटेलिजेंस सर्विस के मुताबिक, इस प्लांट में हजारों लोग छिपे हुए हैं. इस प्लांट में अमोनिया जैसी जहरीली गैस भी स्टोर है.

बुधवार को शुरू हुई दो दिवसीय बैठक के दौरान नाटो देशों के रक्षा मंत्री यूक्रेन को हथियारों की आपूर्ति और स्वीडन व फिनलैंड की संगठन में शामिल होने की अर्जी पर विचार करेंगे. महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने यह जानकारी दी. नाटो नेताओं की पिछली बैठक दो सप्ताह से भी कम समय पहले मेड्रिड में हुई थी.

रूस की सेना ने बुधवार को कहा कि उसने लंबी दूरी की मिसाइलों का इस्तेमाल कर यूक्रेन के पश्चिमी ल्वीव क्षेत्र में एक डिपो को तबाह कर दिया, जिसमें नाटो की ओर से दिए गए हथियारों का गोला-बारूद रखा था.

रूस अब तक यूक्रेन के करीब नौ शहर कब्जे में कर चुका है. इनमें मारियूपोल, सेवेरोदोनेत्स्क, डोनबास, लुहान्स्क, मेलिटोपोल, आइजम, लीमन, डोनेस्क, रुबेझोनोए जैसे शहर शामिल हैं.

युद्ध में मौतों के आंकड़ों को लेकर कई अलग-अलग दावे हो रहे हैं. स्टेटिस्टिक की रिपोर्ट के मुताबिक, यूक्रेन में अब तक 5,500 से ज्यादा नागरिकों की मौत हो चुकी है. 10 हजार से ज्यादा घायल हैं. वहीं, द वर्ल्ड नंबर्स की रिपोर्ट के अनुसार अब तक युद्ध में 35 हजार से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. इनमें यूक्रेन के सैनिक भी शामिल हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : June 16, 2022, 07:55 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here