यूक्रेन से जंग शुरू होने के बाद रूस में पुतिन कितने पॉपुलर? ओपिनियन पोल में आए चौंकाने वाले नतीजे


हाइलाइट्स

पुतिन में रूसी जनता का विश्वास पिछले सप्ताह में 0.6 प्रतिशत अंक गिरकर 79.5% हो गया
सर्वे में 75.8% लोगों ने पुतिन कि कार्य शैली पर भरोसा जताया
संयुक्त रूस पार्टी के लिए लोकप्रिय समर्थन का स्तर 40.4 प्रतिशत

मास्को. यूक्रेन से युद्ध की घोषणा करने के बावजूद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Russian President Vladimir Putin) की लोकप्रियता में अधिक गिरावट नहीं आई है. न्यूज़ एजेंसी तास की एक रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार को ऑल-रूस पब्लिक ओपिनियन रिसर्च सेंटर (All-Russia Public Opinion Research) द्वारा प्रकाशित एक सर्वेक्षण में बताया गया कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन में रूसी जनता का विश्वास पिछले सप्ताह में 0.6 प्रतिशत अंक गिरकर 79.5% हो गया है. एक प्रतिशत से कम की गिरावट उन्हें अभी रूसी लोगों में लोकप्रिय नेता के रूप में बनाये हुए है.

यह पूछे जाने पर कि क्या वे पुतिन पर भरोसा करते हैं? तो सर्वेक्षण में भाग लेने वालों में से 79.5% लोगों ने हां कहा, जोकि एक सप्ताह पहले की तुलना में 0.6 प्रतिशत अंक की गिरावट है. राष्ट्रपति द्वारा अपना काम संभालने के तरीके पर जब सवाल पूछा गया तो 75.8% लोगों ने पुतिन कि कार्य शैली पर भरोसा जताया. मतदान करने वालों में से कुल 50.6% ने कहा कि उन्होंने रूसी सरकार के काम को पसंद किया है और 52.8% ने प्रधान मंत्री मिखाइल मिशुस्तीन के काम को सराहा. उत्तरदाताओं में से 62.3% ने कहा कि उन्हें मिशुस्टिन पर भरोसा है.

संसदीय दलों के नेताओं के लिए सर्वेक्षण किए गए लोगों में से 33.5% ने रूसी कम्युनिस्ट पार्टी के गेन्नेडी ज़ुगानोव, 33.2% ने ए जस्ट रूस के मिरोनोव और 7 प्रतिशत ने कहा कि उन्हें न्यू पीपल पार्टी के अध्यक्ष एलेक्सी नेचायेव (पिछले सप्ताह की तुलना में 1.4 प्रतिशत अंक कम) पर भरोसा है. पोल के प्रतिभागियों में से 15% लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (एलडीपीआर) के नेता लियोनिद स्लटस्की पर भरोसा करते हैं.

वहीं संयुक्त रूस पार्टी के लिए लोकप्रिय समर्थन का स्तर 40.4 प्रतिशत है. रूसी कम्युनिस्ट पार्टी के लिए यह स्तर 0.4 प्रतिशत अंक बढ़कर 10.3% हो गया और न्यू पीपल पार्टी के लिए 0.5 प्रतिशत अंक बढ़कर 4.7% हो गया है.

Tags: Russia ukraine war, Vladimir Putin



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here