लड़ाई को फ्रंटलाइन से आगे लेकर जा रहा रूस, यूक्रेन के प्रमुख शहरों के जरूरी बुनियादी ढांचों पर किए ताबड़तोड़ हमले, इससे क्या हासिल होगा


यूक्रेन में बुनियादी ढांचे को निशाना बना रहा रूस- India TV Hindi News

Image Source : AP
यूक्रेन में बुनियादी ढांचे को निशाना बना रहा रूस

Russia Ukraine War: यूक्रेन के साथ बीते 8 महीनों से जारी युद्ध में रूस अब बैकफुट पर आ गया है। पश्चिमी देशों से मिले हथियारों के बल पर यूक्रेन की सेना रूसी सेना को काफी नुकसान पहुंचा रही है। उसने अपने कब्जे वाले तमाम क्षेत्रों को रूसी चंगुल से छुड़ाकर वहां अपना नियंत्रण पा लिया है। लेकिन अब रूस ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है। वह सीधे सैनिकों से लड़ने से अधिक ध्यान यूक्रेन के बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचाने पर दे रहा है। रूस ने यूक्रेन में कीव, खारकीव और अन्य प्रमुख शहरों के महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचों को निशाना बनाकर सोमवार को ताबड़तोड़ हमले किए हैं। रूस लड़ाई को फ्रंटलाइन से आगे लेकर जा रहा है। उसका मकसद अब यूक्रेन को बुरी तरह तोड़ना है। ताकि वह हथियार होते हुए भी लड़ने में दिक्कतें झेले।  

अधिकारियों के मुताबिक, इन हमलों के कारण यूक्रेन के इन शहरों में पानी और बिजली की आपूर्ति बाधित हुई है। इस युद्ध को 9वां महीना चल रहा है। रूस ने यूक्रेन के बिजली संयंत्रों और अन्य प्रमुख बुनियादी ढांचों को निशाना बनाकर अपने हमले तेज कर दिए हैं। रूस की रणनीति के परिणामस्वरूप यूक्रेन के बड़े हिस्से पहले से ही बिजली कटौती का सामना कर रहे हैं। रूस के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि उसके सुरक्षाबलों ने ‘यूक्रेन की सैन्य कमान और ऊर्जा प्रणालियों को निशाना बनाकर हवा और पानी में मार करने वाले लंबी दूरी के हथियारों के साथ हमले किए।’

निर्धारित लक्ष्यों को बनाया गया निशाना

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘इन हमलों के लक्ष्य हासिल कर लिए गए। सभी निर्धारित लक्ष्यों को निशाना बनाया गया।’ इस बीच, दुनियाभर में खाद्य संकट का खतरा पैदा करने वाली नाकाबंदी को फिर से लागू करने की रूसी धमकी के बावजूद सोमवार को यूक्रेन के बंदरगाहों से अनाजों से भरे हुए 12 जहाज रवाना हुए। यूक्रेन के प्रधानमंत्री डेनिस श्यामल ने कहा कि रूसी मिसाइलों और ड्रोनों ने 10 यूक्रेनी क्षेत्रों को निशाना बनाया और 18 बुनियादी ढांचों को क्षतिग्रस्त कर दिया, जिनमें से ज्यादातर ऊर्जा संयंत्र थे।

बेहद गंभीर हो सकते थे हमले के परिणाम

उन्होंने कहा कि यदि यूक्रेनी सेना ने अधिकतर रूसी मिसाइलों को नहीं मार गिराया होता तो हमले के परिणाम बेहद गंभीर हो सकते थे। टेलीविजन पर राष्ट्रीय पुलिस के प्रमुख इहोर क्लाइमेंको ने अपने संबोधन में कहा कि सुबह के हमलों में 13 लोग घायल हुए हैं। रूस के इन हमलों को यूक्रेन द्वारा कथित तौर पर इस सप्ताहांत काला सागर में रूसी बेड़े पर किए गए ड्रोन हमले को लेकर जवाबी कार्रवाई के रूप में देखा जा रहा है। यूक्रेन ने इन हमलों के आरोपों से इनकार किया है।

कीव के कई हिस्सों में सुनाई दीं धमाकों की आवाजें

यूक्रेन की राजधानी कीव के कई हिस्सों में तड़के धमाकों की तेज आवाजें सुनी गईं। सुबह-सुबह अपने काम पर जाने की तैयारी कर रहे कई लोगों को आपातकालीन विभाग की ओर से मिसाइल हमलों के बारे में चेतावनी वाले संदेश मिले। शहर में इस दौरान करीब तीन घंटे तक हवाई हमलों के खतरे के सायरन बजते रहे। कीव के मेयर वितोली कलितस्चको ने बताया कि हमलों के कारण यूक्रेन की राजधानी के एक हिस्से में बिजली और पानी की आपूर्ति ठप है। उन्होंने कहा कि कीव में रहने वाले करीब 80 प्रतिशत लोगों को पानी की आपूर्ति बाधित हुई है। लोगों को निकटतम पंप रूम और बिक्री केंद्रों से पानी खरीद कर भंडारण करने के लिए कहा गया है।

Latest World News





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here