EU ने किया वन चाइना नीति का समर्थन, दी बातचीत से विवाद सुलझाने की सलाह


हाइलाइट्स

पश्चिम देशों के सबसे बड़े ब्लॉक ने चीन को संयम बरतने की सलाह दी है
यूरोप में चीनी निवेश दोगुना से अधिक 1.2 बिलियन यूरो के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है
यूरोपियन यूनियन का सबसे अधिक माल अमेरिका और ब्रिटेन के बाद चीन में ही एक्सपोर्ट होता है

ब्रसेल्स. नैंसी पेलोसी (Nancy Pelosi) के ताइवान दौरे के बाद तल्ख़ हुए अमेरिका और चीन के रिश्तों के बीच यूरोपियन यूनियन ने चीन को बातचीत के जरिये आपसी मतभेदों को सुलझाने की सलाह दी है. ताइवान दौरे के बाद, यूरोप के 29 देशों की इस यूनियन ने तत्काल बैठक बुलाई थी. बैठक के बाद यूरोपीय संघ ने बुधवार को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा पर उत्पन्न हुए तनाव को बातचीत के माध्यम से हल करने और गलत अनुमान से बचने के लिए चीन के साथ बातचीत के दरवाजों को खुला रखने का आह्वान किया है.

EU के प्रवक्ता ने न्यूज़ एजेंसी रायटर्स से बातचीत में कहा कि संघ की रुचि ताइवान स्ट्रेट (Taiwan Strait) में शांति और यथास्थिति बनाए रखने में है. उन्होंने आगे कहा कि वे क्रॉस-स्ट्रेट मुद्दों के शांतिपूर्ण समाधान को प्रोत्साहित करते हैं. तनाव को बातचीत से सुलझाना चाहिए. गलत आकलन के जोखिम को कम करने के लिए बातचीत के उपयुक्त चैनलों को खुला रखा जाना चाहिए.

वन चाइना नीति का समर्थक है यूरोपियन यूनियन
प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि EU चीन की वन चाइना नीति का समर्थक है. उन्होंने कहा कि यूनियन चीन के जनवादी गणराज्य की सरकार (People’s Republic of China) को चीन की एकमात्र कानूनी सरकार के रूप में मान्यता देता है और वे ताइवान को स्वतंत्र राज्य के रूप में मान्यता नहीं देते हैं.

हालांकि अमेरिका भी कई मौके पर यह स्पष्ट कर चुका है कि वह भी ताइवान की स्वतंत्रता का पक्षधर नहीं है लेकिन वह ताइवान के डेमोक्रेटिक राजनीतिक व्यवस्था का पुरजोर समर्थक है. अमेरिका कह चुका है कि अगर चीन उसे नष्ट करने का प्रयास करेगा तो अमेरिका ताइवान के साथ खड़ा रहेगा.

Tags: China, EU, Nancy pelosi, Taiwan, USA



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here